Tuesday, November 30, 2021
ताजा खबरमेरा स्वास्थ्य

Lung Cancer : धूम्रपान न करने वालों को कैसे हो जाता है फेफड़ों का कैंसर, जानें हर बात

पढ़िये india.com की ये खास खबर….

Lung Cancer: यूएस डिपार्टमेंट ऑफ हेल्थ एंड ह्यूमन सर्विसेज के एक हिस्से, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ (एनआईएच) ने इस रहस्य का खुलासा किया है कि उन लोगों में आखिर फेफड़ों का कैंसर कैसे उत्पन्न होता है, जो कभी धूम्रपान नहीं करते हैं?धूम्रपान के इतिहास वाले लोगों में फेफड़ों के कैंसर के जीनोमिक विश्लेषण में पाया गया है कि इनमें से अधिकांश ट्यूमर शरीर में प्राकृतिक प्रक्रियाओं के कारण उत्परिवर्तन के संचय से उत्पन्न होते हैं.

यह अध्ययन राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान (एनआईएच) के हिस्से नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट (एनसीआई) के शोधकर्ताओं के नेतृत्व में एक अंतरराष्ट्रीय टीम द्वारा आयोजित किया गया है. इसमें उन लोगों में पहली बार फेफड़ों के कैंसर के तीन आणविक उपप्रकारों का वर्णन किया गया है, जिन्होंने कभी धूम्रपान नहीं किया.

शोध के निष्कर्ष इस सप्ताह की शुरूआत में नेचर जेनेटिक्स में प्रकाशित हुए थे.

एनसीआई के कैंसर महामारी विज्ञान और आनुवंशिकी विभाग में एकीकृत ट्यूमर महामारी विज्ञान शाखा में महामारी विज्ञानी एमडी, पीएचडी मारिया टेरेसा लैंडी, जिन्होंने शोध का नेतृत्व किया है, ने कहा, “हम जो देख रहे हैं वह यह है कि कभी धूम्रपान न करने वालों में फेफड़े के कैंसर के विभिन्न उपप्रकार होते हैं, जिनमें विशिष्ट आणविक विशेषताएं और विकासवादी प्रक्रियाएं होती हैं.”

शोध राष्ट्रीय पर्यावरण स्वास्थ्य विज्ञान संस्थान, एनआईएच के एक अन्य भाग और अन्य संस्थानों के शोधकर्ताओं के सहयोग से किया गया है. लैंडी ने कहा, “भविष्य में हम इन उपप्रकारों के आधार पर अलग-अलग उपचार करने में सक्षम हो सकते हैं.”

फेफड़ों का कैंसर दुनिया भर में कैंसर से संबंधित मौतों का प्रमुख कारण है. हर साल, दुनिया भर में 20 लाख से अधिक लोगों को इस बीमारी से जूझना पड़ता है. पर्यावरणीय जोखिम कारक, जैसे कि रेडॉन, वायु प्रदूषण और एस्बेस्टस के संपर्क में आना, फेफड़ों से संबंधित पहले की बीमारियां, धूम्रपान न करने वालों में कुछ फेफड़ों के कैंसर की व्याख्या कर सकते हैं, लेकिन वैज्ञानिक अभी भी यह नहीं जानते हैं कि इनमें से अधिकांश कैंसर का कारण क्या है.

इस बड़े महामारी विज्ञान संबंधी अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने ट्यूमर ऊतक में जीनोमिक परिवर्तनों को चिह्न्ति करने के लिए पूरे-जीनोम अनुक्रमण का उपयोग किया और 232 धूम्रपान करने वालों से सामान्य ऊतक का मिलान किया, जिनमें मुख्य रूप से यूरोपीय मूल के व्यक्ति शामिल थे. इन्हें गैर-छोटे सेल फेफड़ों के कैंसर से निदान किया गया था. ट्यूमर में 189 एडेनोकार्सिनोमा (फेफड़ों के कैंसर का सबसे आम प्रकार), 36 कार्सिनॉइड और विभिन्न प्रकार के सात अन्य ट्यूमर शामिल थे. रोगियों ने अभी तक अपने कैंसर का इलाज नहीं कराया था.

शोधकर्ताओं ने उत्परिवर्तनीय सिग्नेचर्स के लिए ट्यूमर जीनोम का मुकाबला किया, जो विशिष्ट उत्परिवर्तन प्रक्रियाओं से जुड़े उत्परिवर्तन के पैटर्न हैं, जैसे शरीर में प्राकृतिक गतिविधियों से नुकसान (उदाहरण के लिए, दोषपूर्ण डीएनए मरम्मत या ऑक्सीडेटिव तनाव) या कैंसरजनों के संपर्क से.
पारस्परिक सिग्नेचर ट्यूमर के गतिविधियों के संग्रह की तरह कार्य करते हैं, जो उत्परिवर्तन के संचय के लिए प्रेरित होते हैं, जिससे कैंसर के विकास से संबंधी सुराग मिलते हैं. ज्ञात पारस्परिक सिग्नेचर्स की एक सूची अब मौजूद है, हालांकि कुछ हस्ताक्षरों का कोई ज्ञात कारण नहीं है.

इस अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने पाया कि धूम्रपान न करने वाले अधिकांश ट्यूमर जीनोम में अंतर्जात प्रक्रियाओं, यानी शरीर के अंदर होने वाली प्राकृतिक प्रक्रियाओं से होने वाले नुकसान से जुड़े पारस्परिक सिग्नेचर होते हैं.

जैसा कि अपेक्षित था, क्योंकि अध्ययन धूम्रपान न करने वालों तक सीमित था, शोधकर्ताओं को कोई भी पारस्परिक सिग्नेचर नहीं मिला, जो पहले तंबाकू धूम्रपान के सीधे संपर्क से जुड़ा हो.

जीनोमिक विश्लेषण ने कभी धूम्रपान न करने वालों में फेफड़ों के कैंसर के तीन नोवेल उपप्रकारों का भी खुलासा किया, जिसके लिए शोधकर्ताओं ने ट्यूमर में ‘नॉयस’ (यानी जीनोमिक परिवर्तनों की संख्या) के स्तर के आधार पर म्यूजिकल नाम दिए.

प्रमुख ‘पियानो’ उपप्रकार में सबसे कम उत्परिवर्तन थे; यह पूर्वज कोशिकाओं की सक्रियता से जुड़ा हुआ प्रतीत होता है, जो नई कोशिकाओं के निर्माण में शामिल हैं.

ट्यूमर का यह उपप्रकार कई वर्षों में बहुत धीरे-धीरे बढ़ता है और इसका इलाज करना मुश्किल होता है. इसमें कई अलग-अलग चालक उत्परिवर्तन हो सकते हैं. ‘मेजो-फोर्ट’ उपप्रकार में विशिष्ट गुणसूत्र परिवर्तन के साथ-साथ वृद्धि कारक रिसेप्टर जीन ईजीएफआर में उत्परिवर्तन था, जिसे आमतौर पर फेफड़ों के कैंसर में बदल दिया जाता है और तेजी से ट्यूमर के विकास को प्रदर्शित करता है.

‘फोर्ट’ उपप्रकार ने पूरे-जीनोम दोहरीकरण का प्रदर्शन किया, एक जीनोमिक परिवर्तन है, जो अक्सर धूम्रपान करने वालों में फेफड़ों के कैंसर में देखा जाता है. ट्यूमर का यह उपप्रकार भी तेजी से बढ़ता है.

उन्होंने कहा, “हम उपप्रकारों में अंतर करना शुरू कर रहे हैं जो संभावित रूप से रोकथाम और उपचार के लिए अलग-अलग दृष्टिकोण हो सकते हैं.”

डॉ. लैंडी ने आगे कहा, “उदाहरण के लिए, धीमी गति से बढ़ने वाला पियानो उपप्रकार चिकित्सकों को इन ट्यूमर का पहले पता लगाने का अवसर दे सकता है जब उनका इलाज करना कम मुश्किल होता है. इसके विपरीत, मेजो-फोर्ट और फोर्ट उपप्रकारों में केवल कुछ प्रमुख चालक उत्परिवर्तन होते हैं, यह सुझाव देते हुए कि इन ट्यूमर को एक बायोप्सी द्वारा पहचाना जा सकता है और लक्षित उपचार से लाभ हो सकता है.”

इस शोध की एक भविष्य की दिशा विभिन्न जातीय पृष्ठभूमि और भौगोलिक स्थानों के लोगों का अध्ययन करना होगा और ये वह लोग हैं, जिनके फेफड़ों के कैंसर के जोखिम वाले कारकों के जोखिम का इतिहास अच्छी तरह से वर्णित है.

डॉ. लैंडी ने कहा, “हम यह समझने की शुरुआत में हैं कि ये ट्यूमर कैसे विकसित होते हैं. इस विश्लेषण से पता चलता है कि धूम्रपान न करने वालों में फेफड़ों के कैंसर में विविधता है.”

एनसीआई के डिविजन ऑफ कैंसर एपिडेमियोलॉजी एंड जेनेटिक्स के निदेशक, एमडी स्टीफन जे. चानॉक ने कहा, “हम उम्मीद करते हैं कि जीनोमिक ट्यूमर विशेषताओं की इस जासूसी-शैली (डिटेक्टिव-स्टाइल) की जांच से कई प्रकार के कैंसर के लिए खोज के नए रास्ते खुलेंगे.”

अध्ययन एनसीआई और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एनवायर्नमेंटल हेल्थ साइंसेज के इंट्रामुरल रिसर्च प्रोग्राम द्वारा आयोजित किया गया था. (एजेंसी से इनपुट)

साभार-india.com

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें। हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

मारा गाजियाबाद के व्हाट्सअप ग्रुप से जुडने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Leave a Reply

error: Content is protected !!