ख़बरें राज्यों से

90% चुनावों में हार, नेतृत्व किसी एक व्यक्ति का दैवीय अधिकार नहीं.’ ममता के बाद अब प्रशांत किशोर का कांग्रेस पर हमला

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी एक तरफ देश भर में दौरे कर गैर-कांग्रेसी विपक्ष को साथ लाकर लीडरशिप की कोशिश में जुटी हैं तो वहीं अब उनके करीबी राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने भी गांधी परिवार पर हमला बोला है। प्रशांत किशोर ने कांग्रेस नेतृत्व पर सीधे हमला बोलते हुए कहा है कि कांग्रेस पिछले 10 साल में अपने 90% चुनाव हारी है, ऐसे में विपक्ष का नेतृत्व कांग्रेस का दैवीय अधिकार नहीं हो सकता।

प्रशांत किशोर ने ट्वीट किया, ‘कांग्रेस जिस विचारधारा का प्रतिनिधित्व करती है और जो उसका स्थान है, वह एक मजबूत विपक्ष के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। लेकिन कांग्रेस का नेतृत्व किसी एक शख्स का दिव्य अधिकार नहीं है खासकर तब जब पार्टी पिछले 10 वर्षों में 90 प्रतिशत से ज्यादा चुनाव हार चुकी हो। विपक्ष को लोकतांत्रिक तरीके से अपने नेतृत्व का फैसला करने देना चाहिए।’ समझा जाता है कि उनके निशाने पर राहुल गांधी और सोनिया गांधी हैं।

प्रशांत किशोर पहले भी राहुल गांधी पर हमला बोल चुके हैं। अक्टूबर में उन्होंने गोवा में एक कार्यक्रम के दौरान कहा था कि बीजेपी कई दशकों तक कहीं जाने वाली नहीं है लेकिन राहुल गांधी हैं कि समझते ही नहीं। तब एक क्वेश्चन-आंसर सेशन के दौरान उन्होंने कहा था, ‘बीजेपी भारतीय राजनीति का केंद्र बनने जा रही है…वह भले जीते या हार जाए, लेकिन अब वह वैसी ही है जैसे कांग्रेस आजादी के बाद अपने शुरुआती 40 सालों में थी। बीजेपी कहीं नहीं जा रही हैं। एक बार आप राष्ट्रीय स्तर पर 30 प्रतिशत+ वोट हासिल कर लेते हैं तो आप इतनी जल्दी नहीं जाते।’ पीके ने राहुल गांधी पर हमला करते हुए कहा था कि कांग्रेस नेता यह समझते ही नहीं हैं।

ममता ने कहा था- कुछ लोग आधा समय विदेश में बिताते हैं
ममता बनर्जी ने बुधवार को एनसीपी के मुखिया शरद पवार से मुलाकात की थी। यही नहीं उन्होंने सिविल सोसायटी के एक कार्यक्रम में भी हिस्सा लिया था। इस दौरान उन्होंने कहा था कि यूपीए आखिर है कहां। यही नहीं इशारों में ही राहुल गांधी पर हमला बोलते हुए कहा था कि कुछ लोग आधा समय तो विदेश में ही बिताते हैं और कुछ करते नहीं है। इसके अलावा उन्होंने पूछा था कि यदि बंगाल में कांग्रेस चुनाव में उतर सकती है तो फिर टीएमसी गोवा में चुनाव में क्यों नहीं उतर सकती। कहा जा रहा है कि टीएमसी ममता बनर्जी को 2024 के आम चुनाव में विपक्ष के चेहरे के तौर पर पेश करने की तैयारी में है।

इस बीच कांग्रेस ने भी ममता बनर्जी पर खुलकर हमला बोलते हुए कहा है कि वे भाजपा से मिली हुई हैं। खड़गे ने कहा, ‘कांग्रेस का लक्ष्य बीजेपी को हराना लेकिन कुछ लोग बीजेपी को दिल्ली केंद्र में सत्ता में बने रहने में मदद कर रहे हैं। मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, ‘ममता बनर्जी पूरी तरह से गलत हैं कि यूपीए का अस्तित्व नहीं है। राहुल गांधी पर निजी हमले करना भी गलत है।’ उन्होंने कहा कि हमने कई सामाजिक और राजनीतिक मुद्दों पर हमने टीएमसी को साथ लाने की कोशिश की। विपक्ष को बंटना नहीं चाहिए और ना ही आपस में लड़ना चाहिए। हमें बीजेपी के खिलाफ एक साथ लड़ना है। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *