राष्ट्रीय

‘दो बार पीएम बन चुके और क्या चाहिए?’ मोदी से पूछा गया यह सवाल, जानें क्या जवाब दिया

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नकल 12 मई को गुजरात के भरूच में आयोजित ‘उत्कर्ष समारोह’ को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित कर किया। ईस बीच उन्होंने विपक्ष के नेता की बात याद करते हुए कहा कि उन्हें लगता है कि दो बार प्रधानमंत्री बनना ही एक शख्स के लिए काफी है। लेकिन मैं दूसरी धातु का बना हूं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि एक दिन, एक वरिष्ठ नेता मुझसे मिले। वह नियमित रूप से राजनीतिक रूप से हमारा विरोध करते हैं, लेकिन मैं उनका सम्मान करता हूं। वह कुछ मुद्दों पर खुश नहीं थे, इसलिए वे मुझसे मिलने आए थे। उन्होंने कहा कि देश ने आपको दो बार प्रधान मंत्री बना दिया…अब आगे क्या करना है? उनको लगता था कि दो बार प्रधानमंत्री बन गया तो बहुत कुछ हो गया।

प्रधानमंत्री ने आगे कहा, ‘उन्हें पता नहीं है कि मोदी किस धातु का बना है। गुजरात की धरती ने उसे बनाया है। मैं किसी काम में ढील देने में विश्वास नहीं रखता। मैं यह नहीं सोचता कि जो होना था हो गया, अब आराम करना चाहिए। मेरा सपना है कि सैचुरेशन, शत प्रतिशत लोगों तक जनहित की योजनाओं को पहुंचाना।’

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने भाषण के दौरान किसी नेता के नाम का जिक्र नहीं किया। हालांकि कुछ दिन पहले एनसीपी नेता शरद पवार उनसे मिलने के लिए आए थे और उन्होंने केंद्र की एजेंसियों को लेकर भी मुद्दा उठाया था। शिवसेना नेता संजय राउत और उप मुख्यमंत्री अजित पवार के परिवार के सदस्यों पर ईडी की कार्रवाई के बाद पवार की मुलाकात प्रधानमंत्री मोदी से हुई थी। मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया था कि इस बैठक में पवार ने इन मुद्दों को उठाया था।

सपना पूरा किए बगैर रुकूंगा नहीं
मोदी ने कहा, मेरे प्रधानमंत्री बनने के बाद आठ वर्ष से हमारी सरकार सभी कल्याणकारी योजनाओं का लाभ अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने का पूरा प्रयास कर रही है। 100 फीसदी कवरेज सिर्फ एक आंकड़ा नहीं, यह इस बात का प्रमाण है कि सरकार कितनी संवेदनशील है और जनता का ख्याल रखती है। उन्होंने कहा, हमारी सरकार के आठ वर्ष पूरे होने पर देश के 100 फीसदी लाभार्थियों तक पहुंचने का मेरा एक सपना है और इसे हासिल किए बगैर मैं रुकूंगा नहीं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.