मेरा गाज़ियाबाद

गाजियाबाद: 20 दिनों से लापता है बेटी, नाराज पिता ने डीएम आफिस में किया आत्मदाह का प्रयास

गाजियाबाद। गाजियाबाद के डीएम ऑफिस में सोमवार दोपहर एक शख्स ने अपने ऊपर पेट्रोल डालकर आत्मदाह करने का प्रयास किया। उसकी नाबालिग बेटी पिछले 22 दिन से लापता है और आरोप है कि बेटी लव जिहाद का शिकार हुई है। पीड़ित का कहना है कि मुस्लिम समुदाय के एक युवक ने बेटी को गायब किया है और पुलिस ने इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की।

संजयनगर सेक्टर 23 निवासी धर्मेंद्र बेटी की बरामदगी न होने और नामजद आरोपित के खिलाफ कार्रवाई न होने पर कलक्ट्रेट पहुंचे और पीछे के रास्ते ये डीएम दफ्तर में दाखिल हो गए। वहां धर्मेंद्र ने खुद पर पेट्रोल डालकर आत्मदाह का प्रयास किया। इससे पहले कि वह खुद को आग लगाते उससे पूर्व वहां मौजूद सुरक्षाकर्मियों और कर्मचारियों ने उन्हें दबोच लिया। उन्होंने धर्मेंद्र से तेल की कैन और माचिस छीनी। इस दौरान काफी हंगामा भी हुआ। इस शख्स ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए। जानकारी मिलने पर एसपी सिटी मौके पर पहुंचे। वहां से पुलिस धर्मेंद्र को हिरासत में लेकर मधुबन बापूधाम थाने ले गई।

इससे पहले धर्मेंद्र ने सोमवार सुबह ही इंटरनेट मीडिया पर पोस्ट डालकर आत्मदाह करने का एलान कर दिया था। इसके चलते पुलिस पहले से ही कलक्ट्रेट में तैनात कर दी गई थी। धर्मेंद्र पुलिस को चकमा देकर कलक्ट्रेट में प्रवेश कर गए।

धर्मेंद्र कुमार के अनुसार, उनकी नाबालिग बेटी तान्या पुरावाल 12 वीं की छात्रा है। वह 18 अप्रैल की सुबह अपने स्कूल गई थी लेकिन वापस घर लौटकर नहीं आई। धर्मेंद्र के अनुसार, ग्राम रहीसपुर निवासी वहाब उर्फ जीशान पर उन्हें बेटी को कहीं लेकर चले जाने का शक है। इस संबंध में उन्होंने थाना मधुबन बापूधाम में जीशान के खिलाफ बहला-फुसलाकर भगा ले जाने का मुकदमा भी दर्ज कराया है।

धर्मेंद्र को शक है कि कहीं उनकी बेटी का धर्म परिवर्तन करके जीशान ने निकाह न कर लिया हो। धर्मेंद्र के अनुसार, वह तान्या और जीशान के बीच इंस्टाग्राम पर हुई करीब 1700 पेज की चैटिंग पुलिस को दे चुके हैं। तान्या का लैपटॉप पुलिस के पास है। जीशान के मोबाइल नंबर भी पुलिस को दिए हैं। लेकिन उनकी बेटी अभी तक बरामद नहीं हो पाई है।

घर पर ही मिला नामजद युवक
वहीं पुलिस का कहना है कि धर्मेंद्र ने जिस युवक पर अपनी बेटी को बहला-फुसलाकर गायब करने का आरोप लगाया है वह युवक घटना के वक्त और बाद में अपने घर पर मौजूद मिला। धर्मेंद्र की बेटी 18 अप्रैल को लापता हुई थी। उन्होंने 20 अप्रैल को मधुबन बापूधाम थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पुलिस ने युवक को हिरासत में लेकर पूछताछ की लेकिन किशोरी के बारे में कोई सुराग हाथ नहीं लग सका। वहीं पुलिस का कहना है कि शुरुआती जांच में पता चला है कि छात्रा स्वजन से नाराज होकर घर से गई है।

एसएसपी मुनिराज जी. ने बताया कि सीओ कविनगर के नेतृत्व में टीम गठित की गई है। एसपी सिटी के नेतृत्व में क्राइम ब्रांच टीम को भी किशोरी की तलाश में लगाया गया है। पीड़ित पिता के आरोपों की जांच कराई जाएगी और किशोरी को जल्द ही बरामद किया जाएगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.