ख़बरें राज्यों से

राहुल गांधी का बीजेपी पर निशाना, कहा- बुलडोजर छोड़ो, बिजली लाओ

नई दिल्ली। देश में चल रहे कोयला संकट के बीच कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बीजेपी सरकार पर तंज कसा है। राहुल गांधी ने कहा कि बीजेपी को नफरत का बुलडोजर रोककर देश के पॉवर प्लांट चलाने पर विचार करना चाहिए।

राहुल गांधी ने फेसबुक पोस्ट के जरिए बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर सवाल उठाते हुए कहा कि क्या देश के प्रधानमंत्री को देश और उसमें रहने वाले लोगों की चिंता है? राहुल ने आगे कहा कि बिजली संकट में देश में तबाही मचा रखी है। राहुल गांधी ने कहा- मैने 20 अप्रैल को ही मोदी सरकार से कहा था कि उन्हें देश में नफरत का बुलडोजर छोड़कर पॉवर प्लांट शुरू करना चाहिए। आज देश में कोयले और बिजली की कमी की वजह से तबाही का माहौल पैदा हो गया है। मैं दोबारा ये बात कह रहा हूं कि बिजली और कोयले की किल्लत की वजह से छोटे उद्योग नष्ट हो जाएंगे। इससे और ज्यादा बेरोजगारी बढेगी। छोटे बच्चे इस चिलचिलाती गर्मी को बर्दाश्त नहीं कर पा रहे हैं। अस्पतालों में भर्ती मरीजों की जिंदगी दांव पर है। रेल और मेट्रो को रोकने से भारी वित्तीय नुकसान होगा।

कांग्रेस सांसद ने कहा, ‘‘हमारे पास 2.155 करोड़ टन कोयला स्टॉक में है। जबकि 6.632 करोड़ टन कोयले की जरूरत है। गुजरात, उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, पंजाब और अन्य राज्य बिजली की बढ़ी हुई मांग को पूरा करने में संघर्ष कर रहे हैं।’’ कांग्रेस नेता ने दावा किया, ‘‘कुछ राज्य कोयला आयात करने को मजबूर हैं। कोविड का समय याद करिये, जब सरकार ने भारत के प्रति अपने उत्तरदायित्व से मुंह फेर लिया था। कई राज्यों को आत्मनिर्भर बनने के लिए मजबूर किया गया था और ऑक्सीजन सिलिंडर आयात करने के विकल्प पर विचार करना पड़ा था। यही बात कोयले को लेकर भी हो रही है।’’

राहुल ने आरोप लगाया, ‘‘ बेरोजगारी, महंगाई, व्यापार बंद होने से हमारी अर्थव्यवस्था की रीढ़ की हड्डी पहले ही टूट गई है। यह गंभीर स्थिति अहंकारी और अक्षम मोदी सरकार का काम है।’’ उधर, कोयला सचिव ए के जैन ने मौजूदा बिजली संकट के लिए कोयले की कमी को जिम्मेदार मानने से इनकार करते हुए रविवार को कहा कि इस संकट की मुख्य वजह विभिन्न ईंधन स्रोतों से होने वाले बिजली उत्पादन में आई तीव्र गिरावट है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.