अंतर्राष्ट्रीय

अपने एक दिन के बच्चे को सड़क पर छोड़ने को मजबूर हुई मां, जानिए क्या है पूरा मामला

वॉशिंगटन। अमेरिका के अलास्‍का में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। दरअसल, यहां एक महिला अपने बच्चे को एक गत्ते के डिब्बे में छोड़ गई है, इसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। बच्चे के हाथ में एक पत्र भी है, जिसमें उसकी मां ने अपनी मजबूरी बयां की है। मां ने लिखा कि वह अपने बच्‍चे को इसलिए छोड़ रही है क्योंकि वो उसका पेट भरने में सक्षम नहीं है।

31 दिसंबर की शाम को यह बच्‍चा फेयरबैंक्‍स की रहने वालीं रोक्‍सी लेन को मिला था। रॉक्सी लेन को गत्ते के डिब्बे से एक बच्चे के रोने की आवाज सुनाई दी थी। अलास्का अमेरिका के सबसे ठंडे इलाकों में से एक है। जब यह नवजात मिला तब तापमान 10 डिग्री से कम था। इस बच्चे के साथ रॉक्सी को एक चिट्ठी भी मिली थी। इसमें लिखा था, ‘प्लीज मेरी मदद कीजिए। 31 दिसंबर 2021 यानी आज सुबह 6 बजे मेरा जन्म हुआ, मेरी मां की गर्भावस्था के 28वें हफ्ते में ही मेरा जन्म हो गया और मैं 12 हफ्ते का प्रीमेच्योर हूं। ना ही मेरे माता-पिता के पास और ना ही मेरे दादा-दादी के पास मुझे पालने के लिए खाना और पैसे हैं। वो मेरे साथ ऐसा कभी नहीं करना चाहते थे लेकिन मजबूरन उन्हें यह करना पड़ा।’

इसमें आगे लिखा हुआ था, ‘मेरी मां को भी मुझे खुद से अलग करते हुए काफी दुख हो रहा है। प्लीज मुझे अपना लीजिए और एक ऐसा परिवार दीजिए जो प्यार के साथ मुझे पाल सके। मेरे माता-पिता इसके लिए आप लोगों से भीख मांग रहे हैं। मेरा नाम टेशॉन है।’ रॉक्सी लेन ने अपने पोस्ट में बताया कि यह बच्चा उन्हें उनके घर के पास ही मिला था अधिकारियों को जैसे ही इस बात का पता चला सबसे पहले बच्चे की अस्पताल में जांच करवाई गई। उसे नजदीकी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। पता चला कि वो पूरी तरह से ठीक है।

लेन ने फेसबुक पर लिखा कि बच्‍चे के मां बाप को शायद अलास्‍का के Safe Haven Law के बारे में जानकारी नहीं होगी। जिसमें अगर कोई अभिभावक अपने बच्‍चे को नहीं रखना चाहता तो उसे नजदीकी अस्‍पताल में भेज सकता है या फिर चर्च, पुलिस या फायर स्‍टेशन या अस्‍पताल में जाकर दे सकता है।

रोक्‍सी लेन ने कहा कि आज मैंने एक बच्‍चे की जिदंगी बचा ली। वो आगे लिखती हैं कि इस घटना के बाद वो पूरे दिन सोचती रही कि किसी के साथ ऐसा भी हो सकता है। आखिर उस मां के के साथ आखिर ऐसी क्या मजबूरी रही होगी। वो आगे लिखती हैं कि आखिर वो मां कितनी मजबूर होगी जिसे यह फैसला लेना पड़ा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *