Tuesday, November 30, 2021
ताजा खबरमेरा गाज़ियाबाद

गाजियाबाद में डेंगू ने तोडा 6 साल का रेकॉर्ड, मौतों की संख्या भी बढ़ी

प्रतीकात्मक चित्र

गाजियाबाद। जिले में डेंगू ने पिछले 6 साल का रेकॉर्ड तोड़ दिया है। रविवार को 16 मामले आने के बाद मरीजों की संख्या 624 पहुंच गई है। इससे पहले वर्ष 2016 में डेंगू के 621 मरीज मिले थे। एक मरीज की मौत भी हुई थी। इस साल में अब तक डेंगू से महिला ग्राम प्रधान समेत दो की मौत हो चुकी है।

जिले में पिछले 2 महीने में ही डेंगू के 624 मामले आ चुके हैं। मौसम में बदलाव होने तक डेंगू बड़ी संख्या में लोगों को अपनी चपेट में ले सकता है। प्रतिदिन औसतन 15 से 20 मामले सामने आ रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग का दावा है कि जिले में लगातार सर्वे और एंटी लार्वा स्प्रे किया जा रहा है, लेकिन जमीनी स्तर पर इसका कोई प्रभाव दिखाई नहीं दे रहा है। सितंबर के मुकाबले अक्टूबर में डेढ़ गुना तेजी से डेंगू का प्रकोप बढ़ा है। सितंबर महीने में जिले में डेंगू के 318 मरीज मिले थे, लेकिन अक्टूबर के केवल 16 दिनों में 296 मरीज मिल चुके हैं। इससे पहले जनवरी से लेकर अगस्त तक जिले में डेंगू के केवल 20 मरीज ही मिले थे।

स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि डेंगू का प्रकोप दिवाली तक रहेगा, क्योंकि दिवाली के बाद मौसम में ठंडक शुरू हो जाती है, जिसके बाद मच्छर का प्रकोप कम हो जाता है। अधिकारियों का कहना है कि जनपद में लगातार लोगों को जागरूक और डेंगू ग्रस्त इलाकों में एंटी लार्वा छिड़काव किया जा रहा है।

शहरी क्षेत्र के गोविंदपुरम, हरसांव और महेंद्रा एन्क्लेव के बाद मुरादनगर डेंगू का हॉटस्पॉट बन गया है। अधिकारी मानते हैं कि मुरादनगर के गांवों में अब तक डेंगू के करीब 100 मामले आ चुके हैं, जिसके चलते विभाग का पूरा ध्यान अब मुरादनगर क्षेत्र पर ही है। मुरादनगर में सीएमओ 3 बार दौरा कर चुके हैं और क्षेत्र में 15 मेडिकल टीमें लगाई गई हैं।

सीएमओ डा. भवतोष शंखधर ने बताया कि सोमवार से मुरादनगर क्षेत्र में घर-घर जाकर बुखार के मरीजों को ट्रेस करने के साथ उनकी डेंगू की जांच कराई जाएगी। मुरादनगर, भोजपुर और मोदीनगर क्षेत्र के सभी गांवों में शिविर लगाकर दीपावली तक जांच और दवाएं बांटने के लिए चिकित्सकों की 10 टीम मौजूद रहेंगी।

महंगा हुआ बकरी का दूध

डेंगू के मरीजों की संख्या बढ़ने के साथ ही बकरी के दूध का दाम बढ़ गए हैं। लोगों का मानना है कि बकरी का दूध प्लेट्लेट्स को तेजी से बढ़ाता है। ऐसे में मरीज के परिजन बकरी का दूध 1500 से 1600 रुपये प्रति किलो की दर से भी खरीद रहे हैं।

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें। हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें। हमसे ट्विटर पर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए।

हमारा गाजियाबाद के व्हाट्सअप ग्रुप से जुडने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Leave a Reply

error: Content is protected !!