Saturday, December 4, 2021
ताजा खबरमेरा स्वास्थ्य

पेशाब में खून आने के साथ दर्द होना ब्लैडर कैंसर के हैं संकेत, जानिए इस कैंसर का पता लगाने का तरीका, बचाव और उपचार

पढ़िये thehealthsite की ये खास खबर….

मूत्राशय का कैंसर या ब्लैडर कैंसर (Bladder Cancer) होने पर पेशाब में खून दिखाई दे सकते हैं, इसके अलावा पेशाब करने के दौरान दर्द महसूस हो सकता है, आइए विस्तार से जानते हैं कि ब्लैडर कैंसर क्यों होता है और ब्लैडर कैंसर का सबसे अच्छा उपचार क्या है।

कैंसर शरीर में असामान्य कोशिकाओं की वृद्धि है। मूत्राशय का कैंसर या ब्लैडर कैंसर (Bladder Cancer) एक सामान्य प्रकार का कैंसर है जो ब्लैडर की कोशिकाओं में शुरू होता है। मूत्राशय आपके निचले पेट में एक खोखला पेशीय अंग है जो जिसमें मूत्र जमा होता है। मूत्राशय का कैंसर अक्सर उन कोशिकाओं (यूरोथेलियल कोशिकाओं) में शुरू होता है जो आपके मूत्राशय के अंदर की रेखा बनाती हैं। यूरोथेलियल कोशिकाएं आपके गुर्दे और मूत्राशय से गुर्दे को जोड़ने वाली नलियों (मूत्रवाहिनी) में भी पाई जाती हैं। यूरोटेलियल कैंसर (Urothelial Cancer) गुर्दे और मूत्रवाहिनी में भी हो सकता है, लेकिन यह मूत्राशय में बहुत अधिक आम है।

अधिकांश मूत्राशय के कैंसर का निदान प्रारंभिक अवस्था में किया जाता है, जब कैंसर अत्यधिक उपचार योग्य होता है। लेकिन प्रारंभिक चरण के मूत्राशय के कैंसर भी सफल उपचार के बाद वापस आ सकते हैं। इस कारण से, मूत्राशय के कैंसर वाले लोगों को आमतौर पर उपचार के बाद वर्षों तक अनुवर्ती परीक्षणों की आवश्यकता होती है। इस लेख में हम आपको ब्लैडर कैंसर संकेत और लक्षणों बारे में बता रहे हैं, साथ ही आप इससे बचाव कैसे कर सकते हैं।

यहां हैं ब्लैडर कैंसर के चेतावनी संकेत – Warning Signs of Bladder Cancer in Hindi

1. पेशाब में खून आना (Blood in Urine)

पेशाब में खून आना मूत्राशय के कैंसर का संकेत हो सकता है, जो कई बार आपकी आंखों द्वारा भी को दिखाई दे सकता है या आप इसका नियमित परीक्षण द्वारा पता लगा सकते है। ऐसे में आपको पेशाब सामान्य से अधिक गहरा, भूरा, या कभी-कभी चमकदार लाल दिखाई दे सकता है। आमतौर पर, पेशाब में रक्त कैंसर के कारण नहीं, बल्कि अन्य कारणों से होता है। इनमें व्यायाम, स्ट्रोक, संक्रमण, गुर्दा संबंधी रोग, या कुछ दवाएं जैसे- रक्त को पतला करने वाली दवाएं शामिल हैं।

2. मूत्राशय परिवर्तन (Bladder Changes)

मूत्राशय के लक्षणों (Bladder Cancer Symptoms) की कैंसर के अलावा अन्य स्थितियों से आने की अधिक संभावना होती है। लेकिन मूत्राशय का कैंसर कभी-कभी मूत्राशय की आदतों में बदलाव ला सकता है, जिनमें शामिल हैं:

  • बार-बार पेशाब के लिए आग्रह, लेकिन बहुत कम या कोई परिणाम न मिलना
  • सामान्य से अधिक बार पेशाब के लिए जाना पड़ता है
  • पेशाब करने में दर्द
  • पेशाब करने में कठिनाई

मूत्र पथ के संक्रमण (Urinary Tract infections) या मूत्राशय की पथरी भी समान लक्षण पैदा कर सकती है, लेकिन इसके लिए अलग उपचार की आवश्यकता होती है।

ब्लैडर कैंसर का कारण क्या है – What is The Main Cause of Bladder Cancer

ब्लैडर कैंसर के जोखिम कारकों की बात करें तो करीब 50% मामले धूम्रपान (Smoking) के कारण डिटेक्ट किए जाते हैं, जो व्यक्ति जितने लंबे समय तक धूम्रपान करता है उसमें उतना ही ज्यादा ब्लैडर कैंसर के होने की संभावना बढ़ जाती है। विशेषज्ञों की मानें तो लगभग 10% ब्लैडर कैंसर के मामले केमिकल एक्स्पोज़र की वजह से होते हैं इसके अलावा ब्लैडर के आसपास रेडिएशन एक कीमोथेरेपी (Chemotherapy) के इस्तेमाल का की हिस्ट्री हो सकती है। मूत्राशय में पथरी (Bladder Stone) होना भी प्रमुख कारणों में से एक है।

ब्लैडर कैंसर का निदान कैसे संभव है – Bladder Cancer Diagnosis

ब्लैडर कैंसर का निदान करने के लिए यूरिन और ब्लड टेस्ट (Blood Test) से किया जाता है। इसके साथ ही इमेजिंग की जाती है, जिसे हम सीटी स्कैन कहते हैं। जिसमें किडनी से लेकर पूरे यूरीनरी ट्रैक (मूत्रपथ) का परीक्षण किया जाता है। सबसे महत्वपूर्ण एंडोस्कोपी टेस्ट (Endoscopy Test) जिसे हम सिस्टोस्कॉपी कहते हैं, जहां दूरबीन की मदद से पूरे ब्लैडर के अंदर की जांच की जाती है।

ब्लैडर कैंसर का उपचार कैसे करते हैं – What is The Best Treatment For Bladder Cancer

ब्लैडर कैंसर के इलाज के लिए सबसे पहले यह देखा जाता है कि कैंसर शरीर के किन क्षेत्रों में फैला है। यदि कैंसर ब्लैडर से बाहर भी फैल गया है तो सबसे पहले उसकी स्टेजिंग की जाती है और स्टेजिंग के ही आधार पर उपचार शुरू किया जाता है। ब्लैडर कैंसर का उपचार आमतौर पर 2 तरीकों से किया जाता है, पहला ब्लैडर के अंदर एंडोस्कोपी रिसेप्शन (Endoscopy Reception) किया जाता है इसके बाद ब्लैडर में दवा डाली जाती है, दूसरी प्रक्रिया सर्जरी की प्रक्रिया होती है जिसमें ब्लैडर को सर्जरी के माध्यम से निकालना पड़ता है। इस प्रक्रिया को करने के पहले या बाद में कीमोथेरेपी की जा सकती है, इसके बाद पेशाब को बाहर निकालने के लिए अलग रास्ता बनाया जाता है। आजकल इसमें रोबोटिक सर्जरी का भी प्रयोग किया जा रहा है।

ब्लैडर कैंसर से बचाव कैसे करें – How Can Bladder Cancer Be Prevented

हालांकि मूत्राशय के कैंसर को रोकने का कोई गारंटीकृत तरीका नहीं है, लेकिन आप अपने जोखिम को कम करने में मदद के लिए कुछ कदम उठा सकते हैं। जैसे-

1. धूम्रपान न करें

यदि आप धूम्रपान नहीं करते हैं, तो शुरू न करें। यदि आप धूम्रपान करते हैं, तो आपको रोकने में मदद करने के लिए एक योजना के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। सहायता समूह, दवाएं और अन्य तरीके आपको छोड़ने में मदद कर सकते हैं।

2. रसायनों के आसपास सावधानी बरतें

यदि आप रसायनों के साथ या उनके आसपास का काम करते हैं, तो जोखिम से बचने के लिए सभी सुरक्षा निर्देशों का पालन करें। केमिकल एक्सपोज़र के कारण भी ब्लैडर कैंसर होने की सम्भावना बढ़ जाती है, इसका योगदान 10 प्रतिशत तक है।

3. विभिन्न प्रकार के फल और सब्जियां खाएं

आपका सही आहार किसी भी कैंसर के उत्पन्न होने को रोकते हैं, अगर आप स्वास्थ्य आहार का सेवन करते हैं तो आप कई रोगों से खुद को दूर रखते हैं। विभिन्न प्रकार के रंगीन फलों और सब्जियों से भरपूर आहार चुनें। फलों और सब्जियों में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट कैंसर के खतरे को कम करने में मदद कर सकते हैं।

निष्कर्ष: यदि आप अत्यधिक मात्रा में धूम्रपान करते हैं और आपकी जीवनशैली भी अनहेल्दी है तो आपको सतर्क होने की जरूरत है। क्योंकि ब्लैडर कैंसर के मामले ज्यादातर धूम्रपान के कारण डायग्नोज किए जाते हैं। इसलिए जरूरी है कि आप एक स्वस्थ जीवन शैली का पालन करें और धूम्रपान जैसी बुरी आदतों से दूर रहें।

साभार-thehealthsite

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें। हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

मारा गाजियाबाद के व्हाट्सअप ग्रुप से जुडने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Leave a Reply

error: Content is protected !!