Monday, November 29, 2021
एनसीआरख़बरें राज्यों सेताजा खबरनागरिक मुद्देराजनीतिराष्ट्रीयविशेष रिपोर्ट

UP Election 2022: यूपी की इन सीटों पर आज तक नहीं जीती BJP, इस बार बना रही खास रणनीति

पढ़िये एबीपी न्यूज़ की ये खास खबर….

UP Elections: साल 2017 में उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने पहली बार ऐतिहासिक जीत हासिल करते हुए 312 सीटों पर विजय हासिल की थी.

UP Assembly Election 2022: उत्तर प्रदेश में अगले साल की शुरुआत में विधानसभा के चुनाव होने हैं. इसे लेकर सभी प्रमुख राजतीनिक दल सड़क पर उतर गए हैं. अखिलेश यादव जहां साइकिल यात्रा के माध्यम से सत्ता में वापसी का रास्ता तलाश रहे हैं. तो वहीं ब्राह्मण सम्मेलन के जरिए मायावती भी बीएसपी में जान फूंकने की तैयारी कर रही हैं. सत्ताधारी बीजेपी भी लखनऊ से लेकर दिल्ली तक लगातार बैठकें कर रही है. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी भी जोर शोर से तैयारी में लगी हैं.

साल 2017 में उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने पहली बार ऐतिहासिक जीत हासिल करते हुए 312 सीटों पर विजय हासिल की थी. उस वक्त अपने सहयोगियों के साथ मिलकर बीजेपी 325 सीटों पर काबिज हुई, लेकिन इस आंधी में भी लगभग 80 सीटें ऐसी थी जिनपर ना तो बीजेपी और ना ही उसके सहयोगी जीत पाए, यहां विपक्षी पार्टियों को जीत मिली थी. अब जब विधानसभा चुनाव बेहद करीब है तो पार्टी इस रणनीति में जुटी है कि कैसे इस बार भी ज्यादा से ज्यादा सीटों पर कमल खिलाया जाए, इनमें खास फोकस उस वक्त हारी हुई लगभग 80 सीटों पर है, जहां 2017 में पार्टी को जीत हासिल नहीं हुई थी.

60 से ज्यादा सीटों पर बीजेपी का कमल आज तक नहीं खिला है

2017 में 78 ऐसी सीटें ऐसी थी जहां बीजेपी और उसके सहयोगी नहीं जीत पाए थे, फिर उसके बाद ओम प्रकाश राजभर की सुभासपा गठबंधन से अलग हो गई तो उसकी 4 सीटों को भी पार्टी ने हारी हुई सीटों में शामिल कर लिया. जिसके बाद ऐसी सीटों की संख्या 82 हो गई. वहीं, उपचुनाव में 2 सीट गंवाने के बाद इन सीटों की संख्या बढ़कर हो गई 84. अब इन 84 सीटों पर जीत की अलग रणनीति तैयार की गई है. इन 84 सीटों में भी 60 से ज्यादा सीटें ऐसी हैं जहां बीजेपी का कमल आज तक नहीं खिला है.

अब आपको बताते हैं कि ऐसी वो कौन सी सीटें हैं जहां बीजेपी आज तक जीतने में सफल नहीं हो पाई है और पार्टी का इस बार फोकस इन सीटों को जीतने पर है. इनमें अगर हम बात करें तो अंबेडकर नगर की अकबरपुर, आजमगढ़ की निजामाबाद सीट, सीतापुर की सिधौली सीट, रायबरेली की हरचंदपुर सीट, लखनऊ की मोहनलालगंज सीट, रायबरेली की रायबरेली सदर सीट, कानपुर की सीसामऊ सीट, आजमगढ़ की आजमगढ़ सदर सीट, प्रतापगढ़ की रामपुर खास सीट, इटावा की जसवंतनगर सीट, रायबरेली की ऊंचाहार सीट, जौनपुर की मल्हनी सीट, आजमगढ़ की अतरौलिया सीट, आजमगढ़ की मुबारकपुर सीट आजमगढ़ की गोपालपुर सीट शामिल है. जौनपुर की मल्हनी सीट जो पहले रारी विधानसभा थी वहां भी बीजेपी आज तक कभी नहीं जीती है. इसके अलावा प्रतापगढ़ की कुंडा सीट बीजेपी 1993 के बाद कभी नहीं जीती.

बीजेपी बना रही है ये रणनीति

दरअसल, ऐसी सीटों की संख्या 60 से ज्यादा है जहां पार्टी अभी तक कमल नहीं खिला पाई है और इसीलिए इस बार इन सीटों पर भी कमल खिले इसके लिए रणनीति तय करते हुए अलग-अलग लोगों को प्रभारी भी नियुक्त किया गया है. पार्टी का पूरा फोकस है कि कैसे 2022 में इन सीटों पर भी कमल खिलाया जाए. इसके लिए पार्टी ने हर सीट पर अलग-अलग प्रभारी भी नियुक्त किए हैं, इन सीटों को जिताने की जिम्मेदारी पार्टी ने अपने विधान परिषद के सदस्यों, राज्यसभा सांसदों, निगम, बोर्ड और आयोग के अध्यक्षों को सौंपी है, जो लगातार इन सीटों पर जीत की रणनीति बनाने में जुटे हैं.साभार-एबीपी न्यूज़

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें। हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Leave a Reply

error: Content is protected !!