Indian Railways EOTT Device: अब बिना गार्ड चलेंगी मालगाडिय़ां, डिवाइस करेगा मदद, जानें खासियत

पढ़िये दैनिक जागरण की ये खास खबर….

Good News उत्‍तर मध्‍य रेलवे (एनसीआर) के जीएम प्रमोद कुमार ने कहा कि ईओटीटी परीक्षण के उत्साहजनक परिणाम मिले हैं। यह प्रौद्योगिकी आने वाले दिनों में मालगाडिय़ों के संचालन में क्रांतिकारी बदलाव लाएगी। कानपुर के इलेक्ट्रिक लोको शेड के लोको में ईओटीटी सिस्टम चालू कर दिया गया है।

प्रयागराज। चौंकिए मत, यह सत्‍य है कि अब मालगाडिय़ां बिना गार्ड के चलाई जाएंगी। इसके लिए रेलवे ने एक डिवाइस विकसित की है। प्रयागराज मंडल में इसका सफल ट्रायल भी किया जा चुका है। एंड आफ ट्रेन टेलीमेट्री (ईओटीटी) डिवाइस को आरडीएसओ लखनऊ और बनारस लोकोमोटिव वर्क्‍स (बीएलडब्ल्यू) द्वारा संयुक्त रूप से विकसित किया गया है। उत्तर मध्य रेलवे के कानपुर लोकोशेड द्वारा मालगाड़ी में एंड आफ ट्रेन टेलीमेट्री (ईओटीटी) प्रणाली का सफल ट्रायल हुआ। ईओटीटी स्वचालित प्रणाली पर ब्रेक वैन के बिना ट्रेन के संचालन की अत्याधुनिक तकनीक है। इससे अब मालगाडिय़ों में ब्रेक वैन की जरूरत नहीं होगी और सुरक्षित संचालन के लिए गार्ड की सभी संरक्षा गतिविधियों को पूरा करेगी।

कानपुर व टूंडला रेलखंड में मालगाड़ी में ट्रायल

कानपुर के इलेक्ट्रिक लोको शेड के लोको में ईओटीटी सिस्टम चालू कर दिया गया है। एक अगस्त को जीएमसी यार्ड और टूंडला रेलखंड में एक मालगाड़ी में एनसीआर द्वारा ईओटीटी का फील्ड ट्रायल किया गया। ट्रायल में शामिल एनसीआर मुख्यालय से मुख्य विद्युत लोकोमोटिव इंजीनियर (सीईएलई) पीडी मिश्रा ने बताया कि चार ऐसे ईओटीटी सिस्टम जल्द ही ट्रायल के लिए इलेक्ट्रिक लोको शेड, कानपुर स्थित लोकोमोटिव में लगाए जाएंगे।

एनसीआर के जीएम बोले

उत्‍तर मध्‍य रेलवे (एनसीआर) के जीएम प्रमोद कुमार ने कहा कि ईओटीटी परीक्षण के उत्साहजनक परिणाम मिले हैं। यह प्रौद्योगिकी आने वाले दिनों में मालगाडिय़ों के संचालन में क्रांतिकारी बदलाव लाने जा रही है।

ऐसे काम करेगा ईओटीटी

ईओटीटी में मुख्य रूप से दो यूनिट होती हैं, अर्था हेड ऑफ़ ट्रेन यूनिट, जो लोकोमोटिव पर लगा होता है और एक पोर्टेबल एंड आफ ट्रेन यूनिट, जो अंतिम वैगन के सेंटर बफर कपलिंग पर लगा होता है। इन दोनों यूनिटों को जोड़ा जाता है। रेडियो लिंक पर एक-दूसरे के साथ संवाद करते हैं। ट्रेन के अंतिम वाहन का ब्रेक पावर प्रेशर लोकोमोटिव के लोको कैब मे हेड ऑफ ट्रेन यूनिट (एचओटी) डिस्प्ले में ड्राइवर को प्रदर्शित होता है। जब भी लोको पायलट लोको कैब में आपातकालीन ब्रेक लगाएंगे तो अंतिम वैगन में भी ब्रेक लगता है। ट्रेन पाॄटग या डिरेलमेंट की स्थिति में अंतिम वैगन का बीपी दबाव स्तर अनियंत्रित होने पर यह प्रणाली लोको पायलट को भी सचेत करेगी। साभार-दैनिक जागरण

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें। हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Discussion about this post

  • Trending
  • Comments
  • Latest

Recent News

error: Content is protected !!