Bomb Blast से बौखलाए China की Pakistan को दो टूक ‘आतंकियों से नहीं निपट सकते, तो हम भेजेंगे अपनी सेना’

पढ़िये जी न्यूज की ये खास खबर….

बीजिंग। पाकिस्तान में हुए आतंकी हमले में अपने नागरिकों की मौत से चीन बुरी तरह बौखला गया है। उसने पाकिस्तान से दो टूक शब्दों में कहा है कि यदि वह आतंकवादियों से नहीं निपट सकता है, तो चीनी सैनिकों को मिसाइलों के साथ मिशन पर भेजा जा सकता है। चीन के इस रूप से पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) डर से कांपने लगे हैं। उन्होंने बीजिंग को भरोसा दिलाया है कि दोषियों को बक्शा नहीं जाएगा। बता दें कि खैबर पख्तूनख्वा में हुए बस धमाके चीनी इंजीनियरों की भी मौत हुई है।

Global Times ने चेताया 

चीन सरकार के अखबार ‘ग्लोबल टाइम्स’ (Global Times) के संपादक ने इस संबंध में ट्वीट करके पाकिस्तान को चेताया है. उन्होंने लिखा है, ‘इस हमले में शामिल कायर आतंकी अब तक सामने नहीं आ पाए हैं, लेकिन उन्हें निश्चित रूप से खोजा और खत्म किया जाना चाहिए। यदि पाकिस्तान की क्षमता पर्याप्त नहीं है,तो उसकी मंजूरी से चीन की मिसाइलों और स्पेशल फोर्स को काम पर लगाया जा सकता है’।

Terrorist को बचाता रहा है China

माना जा रहा है कि इस बयान के बाद पाकिस्तान के ऊपर आतंकियों पर कार्रवाई का दबाव बन गया है। यहां गौर करने वाली बात यह भी है कि चीन खुद पाकिस्तान के आतंकियों को बचाता रहा है। संयुक्त राष्ट्र में मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित कराने के भारतीय प्रयासों में उसने कई बार रोड़े अटकाए थे. अब जब उसके अपने नागरिक आतंक की भेंट चढ़े हैं तो वो बौखला गया है। वहीं, इमरान खान अपने ‘आका’ का गुस्सा शांत करने की हर संभव कोशिश में लगे हैं।

China अपनी जांच टीम भेजेगा

पाकिस्तान के उत्तर पश्चिमी इलाके में एक बस में हुए विस्फोट में चीन के 9 कर्मचारियों की मौत हुई है। इमरान खान सरकार ने शुरुआत में चीन के डर से इस हमले को हादसा बताने का प्रयास किया था। विदेश मंत्रालय की तरफ से जारी बयान में कहा गया था कि गैस लीक के चलते विस्फोट हुआ। साजिश पर पर्दा डालने की इस पाकिस्तानी कोशिश पर बीजिंग ने नाराजगी जताई थी और कहा था कि वह भी अपनी जांच टीम भेजेगा।

Imran ने की फोन पर बात

इस बीच प्रधानमंत्री इमरान खान ने शुक्रवार को अपने चीनी समकक्ष ली कचियांग को आश्वासन दिया कि बस विस्फोट की जांच में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी। उन्होंने कहा कि शत्रु ताकतों को दोनों देशों के बीच सौहार्दपूर्ण संबंधों को नुकसान पहुंचाने की छूट नहीं दी जाएगी। गौरतलब है कि निर्माणाधीन दासू बांध स्थल तक चीन के इंजीनियर और कामगारों को लेकर जा रही बस में विस्फोट होने से 9 चीनी नागरिकों और फ्रंटियर कोर के दो सैनिकों सहित कम से कम 13 लोगों की मौत हो गई और 39 घायल हुए हैं। साभार-जी न्यूज

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स मेंलिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें। हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Discussion about this post

  • Trending
  • Comments
  • Latest

Recent News

error: Content is protected !!