Tuesday, November 30, 2021
एनसीआरख़बरें राज्यों सेताजा खबरनागरिक मुद्देमेरा स्वास्थ्यराष्ट्रीयविशेष रिपोर्ट

अनलॉक में मनमानी पर चेतावनी:हिल स्टेशन और बाजारों में भीड़ ने सरकार की चिंता बढ़ाई; कहा- जितनी छूट दी है, सब वापस ले लेंगे

पढ़िए दैनिक भास्कर की ये खबर…

देश में कोरोना के मामले कम होने पर केंद्र और राज्य सरकारों ने पाबंदियों में ढील देनी शुरू कर दी। अनलॉक का असर ये हुआ कि कई लोग मनमानी करने लगे। बाजारों और टूरिस्ट प्लेस में भीड़ दिखाई देने लगी है। हालात ऐसे बने कि सरकार को इस पर चिंता जतानी पड़ गई।

जॉइंट सेक्रेटरी लव अग्रवाल ने कोरोना के हालात पर होने वाली नियमित प्रेस कॉन्फ्रेंस में मंगलवार को कहा कि कोरोना की दूसरी लहर सीमित दायरे में ही सही, लेकिन अब भी मौजूद है। हिल स्टेशनों पर भारी भीड़ का जिक्र कर उन्होंने कहा कि ऐसा करना अब तक के फायदे को कम कर सकता है। यदि प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया जाता है तो हम पाबंदियों में दी गई ढील को फिर से खत्म कर सकते हैं।

दिल्ली के ITO पर पहले की तरह ट्रैफिक जाम लगने लगा है।

सूत्रों के मुताबिक, स्वास्थ्य मंत्रालय ने शिमला और मनाली में कोरोना गाइडलाइंस का बड़े पैमाने पर उल्लंघन करने को लेकर हिमाचल प्रदेश सरकार को पत्र भी लिखा है।सबसे ज्यादा पॉजिटिविटी रेट वाले 73 जिलों और इनके राज्यों को भी पत्र लिखा गया है।

लॉकडाउन की पाबंदियां कम होने के बाद दिल्ली के सदर बाजार में भारी भीड़ दिख रही है।

ICMR के डायरेक्टर डॉ. बलराम भार्गव ने कहा कि हिल स्टेशनों से आ रहीं तस्वीरें भयावह हैं। लोगों को कोरोना से बचाव के लिए जरूरी व्यवहार का ध्यान रखना चाहिए। प्रेस कॉन्फ्रेंस में ऐसी कुछ फोटो भी दिखाई गईं।

फोटो मसूरी की है। हिल स्टेशनों पर इन दिनों भारी भीड़ हो रही है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि देश में पिछले 9 दिन से लगातार 50 हजार से कम मामले रिपोर्ट हो रहे हैं। देश में कोरोना वायरस के 80% नए मामले 90 जिलों से आ रहे हैं। महाराष्ट्र, तमिलनाडु, केरल, ओडिशा, आंध्र प्रदेश, असम, कर्नाटक में ज्यादा केस सामने आ रहे हैं। कुछ जिलों में ज्यादा संक्रमण देखा जाए तो हमें मानकर चलना पड़ेगा कि दूसरी लहर है। देश में कुछ​ जिले ऐसे हैं, जहां पॉजिटिविटी रेट 10% से ज्यादा है।

शिमला में कोरोना गाइडलाइंस का बड़े पैमाने पर उल्लंघन हो रहा है।

तीसरी लहर चुनौती नहीं, उसे रोकने के लिए क्या करेंगे यह अहम
स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि भविष्य की चुनौती तीसरी लहर नहीं है, बल्कि ये है कि हम इस पर कैसे काम करते हैं। लहर के पहलू को उजागर करने के बजाय, हमें इसके प्रसार को रोकने के लिए सही व्यवहार और प्रतिबंधों पर ध्यान देना चाहिए। साभार-दैनिक भास्कर

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें। हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Leave a Reply

error: Content is protected !!