Tuesday, November 30, 2021
एनसीआरख़बरें राज्यों सेताजा खबरनागरिक मुद्देराष्ट्रीयविशेष रिपोर्ट

CBIC सदस्य के रिटायरमेंट के बाद न मिले सेवा विस्तार, IRS ऑफिसर्स एसोसिएशन ने PM मोदी से आखिर क्यों की ऐसी मांग

पढ़िए नवभारत टाइम्स  की ये खबर…

संघ के अध्यक्ष नरेश पेनुमका द्वारा लिखे गए पत्र में कैबिनेट की नियुक्ति समिति (एसीसी) द्वारा पिछले साल CBIC सदस्य को दिए गए विस्तार का उल्लेख है। एसीसी की अध्यक्षता प्रधानमंत्री करते हैं।

हाइलाइट्स:

  • इस तरह कार्यकाल के विस्तार के कारण कई अधिकारी रैंक में पदोन्नति के बिना ही सेवानिवृत्त हो रहे हैं।
  • भारतीय राजस्व सेवा (सीमा शुल्क और अप्रत्यक्ष कर) के 6,400 अधिकारी और विभाग के 98,000 कर्मचारी अपने करियर को लेकर चिंतित हैं।
  • सेवानिवृत्ति के बाद कार्यकाल के विस्तार की मांग निहित स्वार्थ और पैरवी करने को बढ़ावा देती है।

नई दिल्ली
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (CBIC) के किसी भी सदस्य की सेवानिवृत्ति के बाद सेवा विस्तार के प्रस्ताव पर विचार न करें। प्रधानमंत्री से यह अनुरोध भारतीय राजस्व सेवा (सीमा शुल्क और अप्रत्यक्ष कर) अधिकारी संघ ने पत्र लिखकर किया है। संघ ने वजह बताई है कि ऐसा करने से कैडर का मनोबल गिरता है। संघ ने प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में कहा कि उसके अधिकारी अत्यधिक व्यथित हैं कि सेवानिवृत्ति के बाद कार्यकाल के विस्तार की मांग निहित स्वार्थ और पैरवी करने को बढ़ावा देती है, जो राजस्व संग्रह के पेशेवर आचरण और कर चोरी की रोकथाम के अभियान के लिए नुकसानदेह है।

संघ ने कहा, ‘‘इसके अलावा सेवारत अधिकारियों को ऐसे सेवानिवृत्त अधिकारियों द्वारा शुरू किए गए कर नीति मॉडल के निर्बाध रूप से जारी रखने में भारी दबाव का सामना करना पड़ता है, जो सिविल सूची में नहीं हैं।’’ संघ के अध्यक्ष नरेश पेनुमका द्वारा लिखे गए पत्र में कैबिनेट की नियुक्ति समिति (एसीसी) द्वारा पिछले साल सीबीआईसी सदस्य को दिए गए विस्तार का उल्लेख है। एसीसी की अध्यक्षता प्रधानमंत्री करते हैं।

30 जून को लिखा पत्र
उन्होंने 30 जून के पत्र में कहा, ‘‘आपके संज्ञान में यह लाना है कि कई सेवारत आईआरएस अधिकारियों ने मुझे बताया है कि सीबीआईसी के कुछ और सदस्यों को सेवानिवृत्ति के बाद सेवा विस्तार/पुनर्नियुक्ति दिए जाने की संभावनाएं व्यक्त की गई हैं।’’ विशाखापत्तनम क्षेत्र के प्रधान मुख्य आयुक्त पेनुमका ने कहा, ‘‘इस संबंध में मैं विनम्रतापूर्वक कहना चाहता हूं कि सेवानिवृत्ति के बाद कार्यकाल का विस्तार कैडर को हतोत्साहित करता है, क्योंकि पदोन्नति की पूरी श्रृंखला अवरुद्ध हो जाती है, वह भी तब जब पर्याप्त योग्य अधिकारी पदोन्नति के लिए उपलब्ध हों।’’

कई अधिकारी प्रमोशन के बिना ही हो जाते हैं रिटायर
उन्होंने कहा कि सदस्यों का कार्यकाल सेवानिवृत्ति के साथ समाप्त हो जाना चाहिए। पेनुमका का कहना है कि सीबीआईसी के एक सदस्य को पिछले साल एक साल का विस्तार दिया गया था जो अगस्त 2021 में पूरा होगा और हमें उससे कोई मूल्यवर्धन नहीं मिला। उन्होंने कहा कि इस तरह कार्यकाल के विस्तार के कारण कई अधिकारी रैंक में पदोन्नति के बिना ही सेवानिवृत्त हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय राजस्व सेवा (सीमा शुल्क और अप्रत्यक्ष कर) के 6,400 अधिकारी और विभाग के 98,000 कर्मचारी अपने करियर को लेकर चिंतित हैं। साभार-नवभारत टाइम्स

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें। हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Leave a Reply

error: Content is protected !!