Friday, December 3, 2021
अपराधख़बरें राज्यों सेताजा खबर

गश्त पर निकले डीएसपी को भिखारी ने दी आवाज, पास जाने पर निकला बैच का शार्पशूटर

मनीष के भाई उमेश मिश्रा निरीक्षक हैं। पिता व चाचा एएसपी पद से रिटायर हुए हैं। परिवार के अन्य सदस्य भी ऊंचे पदों पर हैं। पत्नी से तलाक हो चुका है। फिलहाल मनीष को सामाजिक संस्था के आश्रय स्थल स्वर्ग सदन भिजवाया गया है

ग्वालियर, जेएनएन। रास्ते में कचरा बीनता भिखारी एक समय का अचूक निशानेबाज और सब इंस्पेक्टर निकलेगा, यह अंदाजा भी नहीं था। 10 नवंबर की रात गश्त पर निकले डीएसपी रत्नेश तोमर और विजय भदौरिया कचरा बीनते भिखारी के पास रके तो दंग रह गए। वह भिखारी उनका ही बैचमेट एसआइ मनीष मिश्रा था, जो मानसिक संतुलन खोने के कारण इस हाल में पहुंच गया।

भिखारी ने अचानक डीएसपी विजय भदौरिया को आवाज दी और नाम से पुकारा, तब जाकर यह मामला खुला। मनीष को सामाजिक संस्था के आश्रय स्थल स्वर्ग सदन भिजवाया गया है, जहां उसकी देखरेख की जा रही है। मनीष के भाई उमेश मिश्रा निरीक्षक हैं। पिता व चाचा एएसपी पद से रिटायर हुए हैं। परिवार के अन्य सदस्य भी ऊंचे पदों पर हैं। पत्नी से तलाक हो चुका है।

1999 बैच के सब इंस्पेक्टर हैं मनीष

मनीष मिश्रा 1999 बैच के सब इंस्पेक्टर रहे हैं। 2005 तक मनीष नौकरी में रहे और आखिरी समय तक दतिया जिले में पदस्थ थे। इसके बाद मानसिक स्थिति बिगड़ गई और पांच साल तक घर में ही रहे। फिर वे घर से निकल गए। इलाज के लिए जिन सेंटरों व आश्रय स्थलों में रहे, वहां से भी भाग गए। परिवार को भी वर्तमान में पता नहीं था कि मनीषष मिश्रा अब कहां रह रहे थे। उनकी तलाकशुदा पत्नी न्यायिक सेवा में हैं और चचेरी बहन दूतावास में पदस्थ है।साभार- दैनिक जागरण

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Leave a Reply

error: Content is protected !!