ताज़ा खबर :
prev next

रखें इन बातों का ध्यान, नहीं होगा मोबाइल फोन्स से कोई नुकसान

रखें इन बातों का ध्यान, नहीं होगा मोबाइल फोन्स से कोई नुकसान

नयी दिल्ली। कहते हैं की अगर साइंस हमारे लिए वरदान है तो अभिशाप भी है। इसका मतलब यह नहीं की जो भी साइंस के अविष्कारों का हम इस्तेमाल कर रहे हैं वो हमें नुकसान ही पहुंचाती हैं बहरहाल जब तक हम खुद को उसे नुकसान पहुचने न दें। उन्ही अविष्कारों में से एक आविष्कार है मोबाइल फोन। आज के समय में जब मोबाइल फोन का इस्तेमाल इतना बढ़ गया है, तो मोबाइल फोन यूज़र्स को इसके फायदे और नुकसान के बारे में भी पता होना चाहिए। आइये जानते हैं की मोबाइल फोन यूज़ करते समय हमें कौन कौन सी बातों को ध्यान में रखना चाहिए जिससे की हम उससे हो रहे नुकसानों से खुद को बचा सकें।

  • इयरफोन्स का इस्तेमाल इयर

अगर आप ऑफिस जाते हैं और कोई ऐसा काम करते हैं जिसमें आपको ज्यादा से ज्यादा फोन पर बात करनी होती है तो आपके लिए यह जानना बहुत ज़रूरी है की जितना ज्यादा फोन आपके शरीर के दूर होगा उतना ही ज्यादा आप फोन से निकलने वाली किरणों से सुरक्षित रहेंगे। इसके लिए आपके लिए ये ज़रूरी है की आप इयरफोन्स का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें। जो आपको न केवल फोन से निकलने वाली रेडीएशन्स से आपको बचाएगा बल्कि आपको पीठ और गार्दन के दर्द से भी बचा कर रखेगा।

  • फोन को जितना हो सके नीचे से पकडें

आप सोच रहे होंगे कि फोन को पकड़ने का भी कोई सही या गलत तरीका हो सकता है क्या। जी हाँ फोन इस्तेमाल करते वक़्त उसे पकड़ने का तरीका भी बहुत मायने रखता है। क्योंकि फोने का जितना ज्यादा हिस्सा आप कवर कर के रखते हैं उतना ही ज्यादा आप फोन की सिग्नल भेजने और रेसिएवे करने की क्षमता को कम करते हैं।  जिसकी पूर्ति करने के लिए मोबाइल फोन्स अपनी ऊर्जा बढ़ा लेते हैं और ज्यादा विकिरण संचालित करते हैं। इसके लिए ज़रूरी है की आप जितना हो सके फोन का कम से कम हिस्सा पकड़ने की कोशिश करें ताकि फोन कम ऊर्जा पर संचालित हो सके और आपको ख़ास नुस्क्सान भी न पहुंचे।

  • स्थिति का रखें ख़ास ध्यान

फोन पर  बात करते समय इस बात का ज़रूर ध्यान रखें की आपकी स्थिति अर्थात कैसे, किस जगह इत्यादि में आप फोन पर बात कर रहे हैं। क्योंकि हमें अपने फोन की स्क्रीन पर देख कर ये पता चल जाता है की फोन की सिग्नल स्ट्रेंथ कितनी है। जितनी कम सिग्नल स्तेंथ दिखेगी उतनी ही ज्यादा फोन ऊर्जा और विकिरण इस्तेमाल करेगा जो की कमरे लिए हानिकारक होगा। तो यह हमारे लिए ज़रूरोई है की हम अपने फोने की सिग्नल स्ट्रेंथ को ध्यान में रखते हुए ऐसी जगहों पर जा कर बात करें जहाँ नेटवर्क अच्छे आते हो।

  • जितना साधारण फोन उतना ही कम नुकसान

रेडिएशन का असर इस बात पर सबसे ज्यादा निर्भर करता है कि कितनी देर आप फोन के साथ बिताते हैं। अगर आपको न चाहते हुए भी फोन पर ज्यादा देर तक बात करनी पड़ती है तो कोशिश करिए कि बात करने के लिए स्मार्ट फोने की जगह साधारण फोन का ही इस्तेमाल करें, यह आपके लिए सस्ता भी होगा और लाभकारी भी।

आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।