ताज़ा खबर :
prev next

मोब लिंचिंग – असगर अली की हत्या के मामले में 12 तथाकथित गौरक्षक दोषी करार

मोब लिंचिंग – असगर अली की हत्या के मामले में 12 तथाकथित गौरक्षक दोषी करार

रांची | झारखंड में रामगढ़ जिले की एक फास्ट ट्रैक कोर्ट ने 55 वर्षीय मीट व्यापारी अलिमुद्दीन उर्फ असगर अली की हत्या के मामले में 12 तथाकथित गौ रक्षकों को दोषी पाया। एडीजे ओमप्रकाश ने सभी आरोपियों को आईपीसी की धारा 302 (हत्या) समेत कई अन्य धाराओं के तहत दोषी पाया है, जिसके तहत उन्हें आजीवन कैद से लेकर मौत की सजा तक सुनाई जा सकती है। आरोपियों की सजा का फैसला 21 मार्च को सुनाया जाएगा। सरकारी वकील सुशील कुमार शुक्ला ने बताया कि देश में यह अपनी तरह का पहला मामला है जिसमें तथाकथित गौरक्षकों पर हत्या और मारपीट के आरोप सिद्ध हुए हैं।
बता दें कि पिछले साल 29 जून को रामगढ़ जिले के बाज़ारटंड इलाके में 100 से भी अधिक तथाकथित गौ रक्षकों की भीड़ ने अलिमुद्दीन उर्फ असगर अली नाम के एक मुस्लिम व्यापारी की पीट-पीट कर हत्या कर दी थी। भीड़ को शक था कि असगर अली अपनी वैन में गाय का मांस ले जा रहा था। भीड़ ने असगर अली की वैन को भी आग लगा दी थी। लोगों ने आरोप लगाया था कि यह हत्या बजरंग दल के इशारे पर की गई है।
फास्ट ट्रैक कोर्ट ने जिन आरोपियों को दोषी पाया उनमें संतोष सिंह, छोटू वर्मा, दीपक मिश्रा, विकी सॉ, सिकंदर राम, उत्तम राम, विक्रम प्रसाद, राजू कुमार, रोहित ठाकुर और स्थानीय भाजपा नेता नित्यानन्द महतो और कपिल ठाकुर शामिल हैं। इनके अलावा एक नाबालिग लड़के को भी हत्या में शामिल होने का दोषी पाया गया है।

क्या आपका जल्दी पहुँचना इतना जरूरी है? जरा सोचिए !

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad
Subscribe to our News Channel

By हमारा गाज़ियाबाद ब्यूरो : Sunday 22 जुलाई, 2018 02:53 AM