ताज़ा खबर :
prev next

बौद्ध धर्मस्थल तोड़कर बनाई थी अयोध्या में मस्जिद, सुप्रीम कोर्ट में हुआ दावा पेश

बौद्ध धर्मस्थल तोड़कर बनाई थी अयोध्या में मस्जिद, सुप्रीम कोर्ट में हुआ दावा पेश

नई दिल्ली | अयोध्या की विवादित जमीन पर हिन्दू और मुसलमानों के बाद अब बौद्ध समुदाय ने भी दावा किया है। बौद्ध समुदाय के सदस्यों की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की गई है जिसमें कहा गया है कि अयोध्या की विवादित जमीन एक बौद्ध स्थल है। इस दावे का आधार भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) द्वारा चार बार कराई गई खुदाई को बताया गया है। याचिका के मुताबिक एएसआई की खुदाई से स्तूपों, गोलाकार स्तूपों, दीवारों और स्तंभों का पता चला था जो एक बौद्ध विहार की विशेषताएं हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर के मुताबिक यह याचिका अयोध्या में ही रहने वाले विनीत कुमार मौर्य बौद्ध समाज के सदस्यों की ओर से यह याचिका दायर की है। अपनी याचिका में विनीत ने यह दावा भी किया है कि खुदाई में किसी मंदिर या हिंदू धर्म से संबंधित किसी स्थल को तोड़े जाने के सबूत नहीं मिले थे। बता दें कि विवादित जमीन के आसपास आखिरी खुदाई 2002-03 में की गई थी। मौर्य ने याचिका के जरिए सुप्रीम कोर्ट से अपील की है कि वह इस विवादित जगह को श्रावस्ती, कपिलवस्तु, कुशीनगर और सारनाथ की तरह बौद्ध विहार घोषित करे।

क्या आपका जल्दी पहुँचना इतना जरूरी है? जरा सोचिए !

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad
Subscribe to our News Channel