ताज़ा खबर :
prev next

नेशनल हाईवे पर लगी अवैध होर्डिंग पर माफियाओं का कब्जा, कोई सुनवाई नहीं

नेशनल हाईवे पर लगी अवैध होर्डिंग पर माफियाओं का कब्जा, कोई सुनवाई नहीं

गाज़ियाबाद। जीडीए से लेकर नगर निगम होर्डिंग माफियाओं के खिलाफ अभियान चला रहा है, लेकिन नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) ने अभियान की पोल खोल दी है। यूपी गेट पर अवैध तरीके से लगाए गए दिशासूचक यूनिपोल को लेकर एनएचएआई ने नगर निगम प्रशासन को कटघरे में खड़ा कर दिया है। एनएचएआई ने नगर निगम को लिखा है कि आपने अवैध तरीके से हमारी जमीन पर यूनिपोल लगाया और उस पर व्यावसायिक विज्ञापन करने की अनुमति भी दी है।
मामला इतना बढ़ गया कि एनएचएआई के अधिकारियों ने पहले नगर निगम को पत्र लिखा और उसके बाद फोन कर नगर आयुक्त से यूनिपोल हटाने को कहा। हैरत की बात यह है कि उसके बाद भी कोई सुनवाई नहीं हुई। ऐसे में एनएचएआई को अपनी एजेंसी को निर्देश देना पड़ा कि अगर निगम दो दिन के अंदर यूनिपोल नहीं हटाता है तो वे उसे गिरा दें। सूत्रों का कहना है कि कुछ अधिकारियों की मिलीभगत के चलते पहले दिशा सूचक बोर्ड लगाने के लिए यूनिपोल लगाया जाता है। उसके बाद होर्डिंग माफियां सेटिंग कर धीरे से उसका व्यावसायिक उपयोग शुरू कर देते हैं।

अवैध होर्डिंग का बड़ा खेल 
एनएच-24 पर चौड़ीकरण के बावजूद भी सड़क किनारे और ग्रीन बेल्ट पर अवैध तरीके से धड़ल्ले से होर्डिंग लगाए जा रहे हैं। यूपी गेट पर बने फ्लाईओवर के खत्म होते ही काफी संख्या में होर्डिंग और यूनिपोल लगे हुए हैं। इनमें से काफी अवैध तरीके से लगाए गए है। इतना ही नहीं मेरठ तिराहे से एनएच-24 की तरफ जाने वाली न्यू लिंक रोड पर भी दिशा सूचक बोर्ड व्यावसायिक होर्डिंग के तौर पर तब्दील किया गया है। इसके साथ ही पुरानी लिंक रोड के दिशा सूचक बोर्ड का अब व्यावसायिक इस्तेमाल किया जा रहा है। बताया जा रहा है कि इसके पीछे भी बड़े होर्डिंग माफियाओं का रोल है जो पहले तय कर दिशा सूचक बोर्ड लगवाते हैं और फिर उसका व्यावसायिक इस्तेमाल करते हैं। यूनिपोल मानकों के विपरीत लगे हैं। कहीं सड़क से सटाकर लगा दिए गए हैं तो कहीं पर पोल की ऊंचाई, लंबाई व चौड़ाई मानकों के विपरीत है। हालांकि निगम के जोनल प्रभारी सुनील राय कहते है कि लगातार होर्डिंग्स और यूनिपोल हटाए जा रहे है। जहां भी अवैध रूप से होर्डिंग्स लगे है उन्हें हटा दिया जाएगा।

अवैध होर्डिंग पर एफआईआर दर्ज कराएगा एनएचएआई
एनएच-24 पर यूपी गेट सहित विभिन्न स्थानों पर लगे अवैध होर्डिंग चौड़ीकरण के काम में बाधा बन रहे हैं। यूपी गेट को यूनिपोल के बाबत नगर निगम को पत्र लिखा और नगर आयुक्त से भी बात की है लेकिन अभी तक कोई कार्यवाही नहीं की गई है। अब एक निजी एजेंसी को निर्देश दिया गया है कि वो अवैध होर्डिंग्स को हटा दे। आगे से कोई भी अवैध यूनिपोल लगता है तो उसके खिलाफ एफआईआर कराई जाएगी।

एनएचएआई से हुई बात, जल्द चलेगा अभियान
निगम में अधिकारियों की कमी का फायदा माफिया उठा रहे हैं। शहर में अवैध यूनिपोल का सर्वे किया जा रहा है। एनएचएआई के डीजीएम मुदित गर्ग से फोन पर बात हुई और उनका कहना है कि सड़कों का चौड़ीकरण किया जा रहा है। इसलिए अवैध यूनिपोल को हटाया जाना जरूरी है, क्योंकि इनकी वजह से कार्य प्रभावित होता है। वहीं मेरठ तिराहे के पास बनी नई लिंक रोड पर भी विज्ञापन माफियाओं ने अवैध यूनिपोल गाड़कर प्रचार कर प्रचार कर रहे हैं।

आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।