ताज़ा खबर :
prev next

देसी दवा में अंग्रेजी दवा मिलाकर मरीजों को देता था हकीम, गिरफ्तार

देसी दवा में अंग्रेजी दवा मिलाकर मरीजों को देता था हकीम, गिरफ्तार

गाज़ियाबाद। प्रह्लादगढ़ी में केंद्र और राज्य औषधि विभाग की संयुक्त टीम ने बुधवार को एक हकीम के यहां छापा मारकर उसे गिरफ्तार कराया है। हकीम देसी दवा में अंग्रेजी दवा मिलाकर बाय और गठिया के मरीजों को देता था। औषधि विभाग का कहना है कि जिस दवा को देसी दवा में मिलाकर दिया जा रहा था, उसके अत्यधिक इस्तेमाल से मरीज को अल्सर, किडनी, लीवर क्षतिग्रस्त और आंतरिक रक्तस्राव हो सकता है।

केंद्रीय दवा मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) को शिकायत मिल रही थी कि प्रह्लादगढ़ी में एक हकीम इकरार अहमद गठिया की अपनी बनाई देसी दवा में अंग्रेजी दवा मिलाकर देता है। कुछ दिन पूर्व सीडीएससीओ ने एक मरीज भेजकर दवा मंगाई और उसकी गाजियाबाद लैब में जांच कराई। जांच में देसी दवा में अंग्रेजी दवा फिनाइन ब्यूटाजोन पाई गई।

बाजार में इस सॉल्ट की कई दर्द निवारक दवाएं उपलब्ध हैं। सीडीएससीओ टीम ने बुधवार को औषधि निरीक्षक के साथ मिलकर हकीम के दवाखाने पर छापा मारा। मौके से 200 से ज्यादा दवा की शीशियां बरामद की गई हैं। औषधि निरीक्षक जुनाब अली का कहना है कि मौके से मिली दवा के नमूना जांच के लिए भेजे गए हैं। जांच के बाद पता चल पाएगा कि इन शीशियों में कौन सी दवा मिली हुई थी।

इस मौके पर सीडीएससीओ के सहायक औषधि नियंत्रक डॉ. अजय सचान और राजेश श्रीवास्तव भी मौजूद थे। छापे के बाद आरोपी हकीम के खिलाफ इंदिरापुरम थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया है। आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

औषधि निरीक्षक का कहना है कि फिनाइल ब्यूटाजोन के ज्यादा प्रयोग से मरीज को अल्सर, किडनी और लीवर क्षतिग्रस्त होने की समस्या हो सकती है। इसके साथ ही मरीज को आंतरिक रक्तस्राव भी हो सकता है।

 

आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।