ताज़ा खबर :
prev next

यूपी में महिला सुरक्षा के दावे फेल, एसिड अटैक की पीड़िता को मिली चौकी बंद तो डायल 100 गाड़ी थी गायब

यूपी में महिला सुरक्षा के दावे फेल, एसिड अटैक की पीड़िता को मिली चौकी बंद तो डायल 100 गाड़ी थी गायब

मेरठ | उत्तर प्रदेश में महिला सुरक्षा और चौकसी के सभी दावे बस खोखले साबित हो रहे हैं। मेरठ में एसिड अटैक की घटना के बाद जा लोग लालकुर्ती पैठ बाजार पर पुलिस चौकी में पहुंचे तो यह चौकी बंद पड़ी थी। वहां न तो पुलिस तैनात थी और ना ही कोई यूपी 100 की गाड़ी मौजूद थी। इतना ही नहीं, ये प्वॉइंट काफी महत्वपूर्ण होने के बावजूद सुबह के समय यहां पुलिस का तैनात नहीं होना खटकता भी है।

शहर में सुबह के समय कई लोग टहलने के लिए निकलते हैं। ऐसे में पुलिस अधिकारियों ने निर्देश जारी किया था कि इनकी सुरक्षा और रूट डायवर्जन प्लान देखने के लिए बेगमपुल व कमिश्नर आवास के आसपास प्वाइंट पर पुलिस तैनात रहे। इसके बावजूद लालकुर्ती में सुबह के समय जब एसिड अटैक की घटना हुई तो वहां पुलिस मौजूद नहीं थी। इतना ही नहीं, पुलिस चौकी भी बंद पड़ी थी। पुलिस रिकॉर्ड में यहां ज्यादातर यूपी 100 की गाड़ी को तैनात किया जाता है, ताकि कोई घटना न हो सके। पास ही एक मंदिर पर दो बार तोड़फोड़ करके माहौल बिगड़ाने का भी प्रयास किया जा चुका है। ऐसे में पुलिस को अलर्ट रहने का निर्देश दिया गया था।

इस सबके बावजूद सुबह के समय जब लेडी डॉन ने दोनों महिला एथलीट पर तेजाब फेंका तो वहां पुलिस मदद के लिए नहीं थी। कुछ राहगीरों ने पुलिस कंट्रोल रूम को फोन किया, तब जाकर पुलिस पहुंची। चूंकि दयानंद अस्पताल सबसे नजदीक था, इसलिए वहीं भर्ती करा दिया गया। इसके बाद गरिमा ने अपने परिजनों और शालू के घर पर वारदात की सूचना दी।

मेयर आशा शर्मा के राज में हो रहा है राष्ट्रध्वज का अपमान

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

By हमारा गाज़ियाबाद ब्यूरो : Wednesday 18 जुलाई, 2018 23:46 PM