ताज़ा खबर :
prev next

करोड़ों के सड़क घोटाले की जांच शुरू, निष्पक्ष होगी? दोषियों को सजा मिलेगी? पता नहीं !

करोड़ों के सड़क घोटाले की जांच शुरू, निष्पक्ष होगी? दोषियों को सजा मिलेगी? पता नहीं !

गाज़ियाबाद | लोकयुक्त के आदेशों पर नगर निगम द्वारा शास्त्रीनगर में बनवाई गई सड़क में हुए कथित करोड़ों रुपये के घोटाले की जांच आज से शुरू हो गई है। अगर जांच निष्पक्ष हुई तो इस घोटाले में कई की अधिकारियों का जेल जाना तय है। चिरंजीव विहार के निवासी और शहर के एक जागरूक नागरिक वेदप्रकाश अग्रवाल की शिकायत के बाद लोकायुक्त ने जांच के लिए दो सदस्यों की एक टीम से जांच कराने के लिए कहा गया है। टीम ने नगर निगम से घोटाले से संबधित पत्रावली तलब भी कर ली है।

जांच करने वाली टीम गाज़ियाबाद पहुँच चुकी है और आज से अपनी जांच शुरू कर रही है। बता दें कि इस घोटाले में अवस्थापना निधि से वित्तीय वर्ष 2015-16 में पौने चार करोड़ रूपये की मंजूर धनराशि से बनी सड़कों की जांच होनी है। इस रकम से शास्त्रीनगर स्थित राज गैस एजेंसी के सामने की सड़क को दो से चार लेन तक चौड़ा करने, बीच में डिवाइडर बनाने, साइड में इंटरलॉकिंग टाइल्स लगाने का काम पूरा करने का प्रस्ताव पास हुआ था। वेदप्रकाश अग्रवाल ने आरोप लगाया कि मौके पर न तो डिवाइडर बना, न इंटरलॉकिंग टाइल्स लगी और न ही सड़क चार लेन चौड़ी हुई। इसके बावजूद ठेकेदार को 90 फीसदी भुगतान कर दिया गया था।

अग्रवाल ने प्रदेश सरकार को भी जांच के लिए पत्र लिखा था। शिकायत के बाद भी सुनवाई न होने पर उन्होंने हाईकोर्ट में याचिका डाली थी। इसके अलावा लोकायुक्त यूपी से भी शिकायत की गई। लोकायुक्त ने जिलाधिकारी रितु माहेश्वरी और नगर आयुक्त सीपी सिंह को पत्र भेजा है। प्रदेश के लोकायुक्त की ओर से अनु सचिव हरिंद्र प्रताप सिंह ने जिलाधिकारी को पत्र भेजा है। इस मामले में दो अधिकारियों की एक जांच कमेटी बनाई गई है। इसमें में अन्वेषण विभाग के सीओ राहुल रूसिया और जावेद शामिल हैं।


आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।


By हमारा गाज़ियाबाद ब्यूरो : Tuesday 17 जुलाई, 2018 18:34 PM