ताज़ा खबर :
prev next

सीकरी खुर्द को शहीद गांव का दर्जा नहीं देने को लेकर ग्रामीणों का प्रदर्शन

सीकरी खुर्द को शहीद गांव का दर्जा नहीं देने को लेकर ग्रामीणों का प्रदर्शन

गाज़ियाबाद। जिला प्रशासन द्वारा जारी की गई शहीद गांव की सूची में सीकरी खुर्द गांव का नाम शामिल न किए जाने पर नाराज ग्रामीणों ने सोमवार को तहसील पहुंचकर जमकर नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया। इस दौरान ग्रामीणों ने सीकरी खुर्द गांव को शहीद गांव घोषित किए जाने की मांग को लेकर जिलाधिकारी के नाम एक ज्ञापन एसडीएम पवन अग्रवाल को सौंपा।

इस मौके पर पूर्व जिला पंचायत सदस्य डा. बबली गुर्जर ने बताया कि 1857 की क्रांति में मोदीनगर तहसील के गांव सीकरी खुर्द के ग्रामीणों ने अंग्रेजों से लोहा लेने का काम किया था। उस दौरान अंग्रेजी सेना ने गांव सीकरी खुर्द के 131 लोगों को फांसी पर लटका दिया था। जिस वट वृक्ष पर ग्रामीणों को फांसी दी गई थी, वह वृक्ष आज भी गांव में महामाया मंदिर में स्थित है।

उन्होंने बताया कि गाजियाबाद जिले का सीकरी खुर्द पहला ऐसा गांव है, जहां सबसे बड़ी शहादत दी गई थी। ज्ञापन देने वालों में भोपाल गुर्जर, राहुल गुर्जर, कालू चेयरमैन, उत्तम सिंह, सतबीर, रामपाल, बीरबल सिंह, जशवंत, कमल सिंह, महेन्द्र सिंह, अरूण, बिजेन्द्र सिंह, वरूण गौतम, विपिन गुर्जर, राहुल, सौरभ, नितिन, अभिषेक आदि मौजूद रहे।

 

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।