ताज़ा खबर :
prev next

मुस्लिम इलाके में क्यों गए तिरंगा यात्रा लेकर, कासगंज हिंसा पर बोले सपा नेता अबु आज़मी

मुस्लिम इलाके में क्यों गए तिरंगा यात्रा लेकर, कासगंज हिंसा पर बोले सपा नेता अबु आज़मी

नई दिल्ली | कासगंज में भले ही सुरक्षा बलों की तैनाती की वजह से माहौल सामान्य होने की ओर है मगर इस घटना पर हो रही राजनीति खत्म लेने का नाम नहीं ले रही है । एक टीवी चैनल पर बहस में भाग लेते हुए समाजवादी नेता अबू आसिम आजमी ने कहा कि चंदन को गोली मुसलमानों ने नहीं हिंदुओं ने मारी है। अपने इस बयान के पीछे आजमी ने तमाम तर्क भी सामने रखे।

बहस में जब शो के एंकर ने सपा नेता से पूछा कि आखिर समाजवादी पार्टी के पास ऐसी कौन सी जांच एजेंसी है जिसके चलते आप लोग कह रहे हैं कि कासगंज में चंदन की हत्या किसी गैर मुस्लिम ने की है। एंकर ने ये भी कहा कि आप लोग प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष तौर पर ये कह रहे हैं कि ये हत्या किसी हिंदू ने की है। इस सवाल पर आजमी ने कहा कि, ‘तिरंगा यात्रा में लड़के भगवा झंडा लेकर और सिर पर भगवा कपड़े बांध मुस्लिम इलाके में आए और कहने लगे कि हिंदुस्तान में रहना होगा तो वंदे मातरम कहना होगा। जिन लोगों ने हाथ में भगवा झण्डा और सिर पर भगवा बांधा होगा उन्हीं लोगों ने ये काम किया होगा।’

एंकर ने सपा नेता को काउंटर करते हुए फिर से सवाल किया कि तो क्या इस देश में जिसके सिर पर भगवा कपड़ा बंधा होगा उसे गोली मार दिया जाएगा क्या? इस सवाल पर सपा नेता बोलने लगे कि, ‘तो क्या जरूरत थी मुस्लिम इलाके से तिरंगा यात्रा निकालने की? क्या यहां के मुसलमान पाकिस्तानी हैं क्या?’

हमारा मत

क्या कारण है कि भारत में रह रहे मुसलमान वंदे मातरम का नारा लगाने या तिरंगा यात्रा जैसे आयोजनों का विरोध करते हैं?


आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।