ताज़ा खबर :
prev next

ढाई साल से बिछड़े प्रेमी युगल को आशा ज्योति केंद्र ने मिलवाया

ढाई साल से बिछड़े प्रेमी युगल को आशा ज्योति केंद्र ने मिलवाया

गाज़ियाबाद। कहते हैं कि अगर आपका प्यार सच्चा हो तो सारी कायनात उसे आपसे मिलाने में जुट जाती है। एक प्रेमिका जिसने अपने घर वालों के मर्जी के बैगर अपने प्रेमी से शादी की थी, उसे ढाई साल बाद कोर्ट के आदेश पर पति के पास भेज दिया गया है। इन प्रेमी जोड़ों को मिलाने का पूरा आभार आशा ज्योति केंद्र को जाता है।

पूरी घटना मेरठ के कस्बा मवाना की है। यहाँ की रहने वाली बीए पास युवती ने जून 2015 में गाजियाबाद निवासी युवक से प्रेम विवाह किया था। दोनों ने दोस्ती से प्यार तक का सफर पढ़ाई के दौरान तय किया था। अलग-अलग जाति के होने की वजह से युवती के परिवार वालों ने इस प्रेम विवाह को स्वीकार नहीं किया। इसके बाद नाटकीय ढंग से युवती के परिजन धूमधाम से शादी कराने का झांसा देकर उसे घर ले गए।

आरोप है कि इसके बाद परिवार वालों ने युवती को घर में कैद कर लिया। जबरन शादी कराने की कोशिश की लेकिन युवती शादी करने को राजी नहीं हुई। इसपर प्रेमी पति ने गाजियाबाद आशा ज्योति केंद्र में शिकायत करके पत्नी को मुक्त कराने का अनुरोध किया। आशा ज्योति केंद्र की काउंसर प्रियांजली मिश्रा, कविता सिंह और अर्चना सिन्हा ने पुलिस की मदद से युवती को उसके घर से मुक्त करा दिया। इसमें आशा ज्योति केंद्र मेरठ की काउंसलर ने भी मदद की। अपने ही घर में कैद युवती ने कोर्ट में अपने पति के साथ रहने की इच्छा जताई। कोर्ट के आदेश पर पुलिस ने युवती को उसके पति के सौंप दिया। ढाई साल के लम्बे इंतज़ार के बाद हुई मुलाकात में दोनों की आंख से खुशी से छलक गई।

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर a>पर फॉलो भी कर सकते हैं।