ताज़ा खबर :
prev next

रियल हीरो- दिल्ली के दिनेश कामकाज छोड़ अस्पताल के बाहर गरीबों को खिलाते हैं खाना

रियल हीरो- दिल्ली के दिनेश कामकाज छोड़ अस्पताल के बाहर गरीबों को खिलाते हैं खाना

नई दिल्ली। गरीब और भूखे लोगों की लाचारी देखकर दिल्ली में रहने वाले दिनेश चौधरी को ऐसी धुन चढ़ी कि उन्होंने उनका पेट भरने के लिए अपना कामकाज भी छोड़ दिया। दिनेश आज दिल्ली के सभी सरकारी अस्पतालों में एक-एक दिन करके गरीबों को खाना खिलाते हैं।

इस काम में दिनेश चौधरी का पूरा परिवार साथ देता है। दिनेश गाड़ी के जरिए अलग-अलग इलाकों में जाकर भूख के खिलाफ अभियान चलाते हैं। गाड़ी पर हनुमानजी की तस्वीर वाला एक बैनर लगा रहता है। जिसपर लिखा होता है,’बालाजी कुनबा- एक परिवार भूख के खिलाफ’। इसमें आगे लिखा है, ‘वह मंदिर का लड्डू भी खाता है, मस्जिद की खीर भी खाता है। वह भूखा है ‘साहब’ उसे, मजहब कहां समझ में आता है।’ दिनेश की टीम में 8-10 सदस्य हैं। ये सभी लोग उनके परिवार के लोग ही होते हैं। उनके कुछ दोस्त भी होते हैं जो इस काम में उनका साथ देते हैं।

दिनेश दिल्ली के आईएनए मार्केट के पास पिल्लांजी इलाके में रहते है। यहां स्थित एक मंदिर से इस मुहिम को संचालित किया जाता है। यहीं पर नाश्ता और खाना तैयार किया जाता है। 31 साल के दिनेश चौधरी का कहना है कि हमारा लक्ष्य है-एक परिवार भूख के खिलाफ। दिनेश ने इस नेक काम की शुरुआत पिछले साल 2017 में की थी। इस मुहिम के तहत दिनेश दिल्ली के सभी प्रमुख सरकारी अस्पतालों जैसे एम्स, आरएमएल और जीबी पंत अस्पताल के बाहर मुफ्त में खाना खिलाने लगे।

पिछले करीब 10 महीनों से यह सिलसिला चल रहा है। दिनेश और उनकी टीम हर मंगलवार, शनिवार और त्योहारों पर गरीबों को खाना खिलाते हैं। उनके खाने में पूरी-सब्जी, हलवा और काबुली चने के अलावा खास मौकों पर मिठाई भी होती है। ख़ास बात यह कि दिनेश सारा खाना अपने घर पर ही बनवाते हैं। दिनेश का कहना है कि उनसे भी अच्छा और बड़ा काम करने वाले लोग भी इस दुनिया में हैं। लेकिन यह तो उनका बड़प्पन है। ऐसे लोग ही हमारे समाज के रियल हीरो हैं।

साभार- Your Story Hindi

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर a>पर फॉलो भी कर सकते हैं।