ताज़ा खबर :
prev next

क्या सब को साथ लेकर विकास यात्रा जारी रख पाएगा मोदी का चुनावी बजट

क्या सब को साथ लेकर विकास यात्रा जारी रख पाएगा मोदी का चुनावी बजट

गाज़ियाबाद | अब से कुछ ही देर में यानी 11 बजे वित्त मंत्री अरुण जेटली संसद में बजट पेश करेंगे। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में अगले लोकसभा चुनावों से पहले इस सरकार का यह आखिरी पूर्ण बजट होगा। उम्मीद की जा रही है कि मोदी सरकार का यह बजट चुनावी बजट सभी के लिए कुछ न कुछ अवश्य लेकर आएगा। हालांकि यदि आप ट्रैक रेकॉर्ड देखें तो मोदी ने अब तक जीतने भी निर्णय लिए हैं, उनमें राजनैतिक नफा-नुकसान कम और राष्ट्रहित ज्यादा नज़र आया है। नोटबंदी और जीएसटी इसका सर्वश्रेष्ठ उदाहरण हैं।

फिर भी उम्मीद की जा रही है कि दिसंबर तक आठ राज्यों के विधानसभा चुनाव और अगले लोकसभा चुनावों के मद्देनजर वित्त मंत्री अरुण जेटली बजट में आयकर में रियायत, रोजगार सृजन, कृषि क्षेत्र के लिए अहम घोषणाएं कर सकते हैं। महंगाई काबू में करने के लिए पेट्रोलियम उत्पादों में शुल्क घटाने का ऐलान भी हो सकता है। विशेषज्ञों के अनुसार इस बजट में आयकर छूट की सीमा को तीन लाख रुपये तक की जा सकती है। वहीं 5, 20 और 30 फीसदी की आयकर की दर के बीच 10 प्रतिशत का नया स्लैब जोड़े जाने की उम्मीद है। आवास ऋण के मूलधन और ब्याज की सीमा में बढ़ोतरी के साथ 14 साल बाद फिर से मानक कटौती (स्टैंडर्ड डिडक्शन) का लाभ नौकरीपेशा लोगों को दिया जा सकता है। रोजगार देने वाली कंपनियों को करों में छूट और कर बचाने के लिए निवेश सीमा बढ़ाई जा सकती है। बजट में उद्योग क्षेत्र को राहत देने में रोजगार पैदा करने की जुगत भी सरकार लगाएगी।इसमें पीएफ खातों में सरकार की ओर से जिम्मेदारी लेने जैसे कदम उठाए जा सकते हैं। आयकर की धारा 80जेजेजेएए में नए कर्मचारियों की भर्ती करने वाली उद्योगों को आसान दरों पर कर्ज, तीन साल के लिए 30 प्रतिशत की अतिरिक्त छूट, काम सिखाने के कार्यक्रमों के लिए कंपनियों को प्रोत्साहन मुहैया करा सकती है।


आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।

By हमारा गाज़ियाबाद ब्यूरो : Thursday 22 फ़रवरी, 2018 18:11 PM