ताज़ा खबर :
prev next

आखिर क्यों पासपोर्ट का रंग बदलना चाहती है सरकार

आखिर क्यों पासपोर्ट का रंग बदलना चाहती है सरकार

नई दिल्ली अभी तक केवल एक ही तरह के पासपोर्ट दिए जाते थे जिनका रंग गाढ़ा नीला होता था लेकिन अब कुछ लोगों के नारंगी रंग के पासपोर्ट देखे जायेंगे बता दें, कानून के हिसाब से एमिग्रेशन का मतलब होता है कि आप भारत छोड़कर किसी एक चुनिंदा देश में रोज़गार के मकसद से जा रहे हैं। ईसीआर कैटेगरी लाने के पीछे सरकार का मकसद कम पढ़े लिखे, अकुशल और आर्थिक-समाजिक रूप से कमज़ोर लोगों की मदद करना हैं ताकि उन्हें दूसरे देशों में और वहां के कानून से परेशानी न हो

जनवरी 2007 के बाद जो भी पासपोर्ट जारी किए जाते हैं, उनमें आखिरी पन्ने पर ईसीआर लिखा जाता है ईसीएनआर के तहत आने वाले पासपोर्ट पर अलग से कुछ भी अंकित नहीं किया जाता है। इस साल नियम के तहत ईसीआर के पासपोर्ट का रंग बदल कर नारंगी कर दिया जाएगा। इससे इमिग्रेशन चेक की प्रक्रिया सरल हो जाएगी और दूसरे देशों में ऐसे लोगों को मदद मिल सकेगी

नियम के मुताबिक ऐसी 14 कैटेगरी हैं जिसके अंतर्गत आने वाले लोग ईसीएनआर पासपोर्ट के लिए योग्य होते हैं जैसे कि वो लोग जिनकी उम्र 18 साल के कम या 50 साल से अधिक हो। वो लोग जिन्होंने 10वीं या उससे अधिक तक की पढ़ाई की है, वो भी इसी कैटेगरी में आते हैंएमिग्रेशन एक्ट 1983 के कई लोगों को दूसरे देश में जाने के लिए एमिग्रेशन क्लीयरेंस लेनी पड़ती है। इसका मतलब है अभी दो तरह के पासपोर्ट जारी किए जाते हैं- ईसीआर यानि जिस पासपोर्ट में एमिग्रेशन चेक की ज़रूरत होती है और ईसीएनआर यानि कि वो पासपोर्ट जिसमें एमिग्रेशन चेक की ज़रूरत नहीं होती है। पासपोर्ट का रंग ईसीआर स्टेटस पर निर्भर करेगा। ईसीआर स्टेटस वाले पासपोर्ट का रंग नारंगी होगा, जबकि ईसीएनआर स्टेटस वाले लोगों को नीले रंग का ही पासपोर्ट दिया जाएगा

हालांकि आलोचकों का कहना है कि नया पासपोर्ट भेदभाव को बढ़ावा दे सकता है कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर इस फैसले का विरोध किया है राहुल ने लिखा, “भारतीय प्रवासियों के साथ दूसरे दर्जे के लोगों की तरह बर्ताव करना सही नहीं है ये बीजेपी की भेदभाव करने की मानसिकता दर्शाता है

विदेश मंत्रालय ने ऐलान किया है कि पासपोर्ट के आखिरी पन्ने पर अब माता-पिता या पति पत्नी का नाम और पता भी अंकित नहीं किया जाएगा। लेकिन इससे एक समस्या यह हो सकती है कि आप अपने पासपोर्ट को पहचान पत्र की तरह इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।