ताज़ा खबर :
prev next

जानें क्यों गूगल ने डूडल बनाकर इस लेखिका को किया याद

जानें क्यों गूगल ने डूडल बनाकर इस लेखिका को किया याद

नई दिल्ली गूगल ने आज का अपना डूडल इंग्लिश की महान राइटर वर्जिनिया वुल्फ को समर्पित किया है गूगल ने वर्जिनिया वुल्फ 136वां जन्मदिवस शीर्षक से अपना डूडल बनाया है वर्जिनिया वुल्फ को बीसवीं सदी के अग्रणी आधुनिकतावादियों में से माना जाता है। वर्जीनिया वुल्फ का असली नाम एडेलीन वर्जिनिया वुल्फ था उनका जन्म 25 जनवरी, 1882 को लंदन में हुआ था उनकी पढ़ाई किंग्स कॉलेज लंदन में हुई और महिलाओं की उच्च् शिक्षा को लेकर आवाज उठाने वाले पहले लोगों में से वे एक थीं

वे अपने बचपन ने इंग्लिश क्लासिक्स और विक्टोरियन लिटरेचर को पूरी तरह घोंटकर पी गईं लेकिन वर्जिनिया लेखन की शुरुआत 1900 में की। उनका पहला उपन्यास ‘द वॉयज आउट’ 1915 में प्रकाशित हुआ इस उपन्यास को उनके पति लियोनार्ड वुल्फ के प्रकाशन संस्थान हॉगर्थ प्रेस ने छापा था उनके श्रेष्ठ उपन्यासों में ‘मिसेज डैलोवे (1925)’, ‘टू द लाइटहाउस (1927), ऑरलैंडो (1928) खास तौर से पहचाने जाते हैं। उन्होंने एक लंबा निबंध ‘अ रूम ऑफ वन्स ओन’ भी लिखा, जिसमें उनका कहना था कि अगर औरतों का फिक्शन लिखना है तो औरत के पास अपना पैसा और कमरा होना चाहिए

वर्जिनिया वुल्फ की किताब ‘ऑरलैंडो’ पर 1992 में फिल्म बनी थी जिसमें टिंडा स्विल्टन ने काम किया था फिल्म को सैली पोटर ने डायरेक्ट किया था और आईएमडीबी पर इसे 7.2 की रेटिंग हासिल है यही नहीं, ‘मिसेज डैलोवे’ पर फिल्म भी बन चुकी है 1997 में बनी इस फिल्म को काफी पसंद किया गया था और इसे बेहतरीन फिल्म भी बताया गया था उनकी कई कहानियों को टीवी पर उकेरा गया उनके लेटर्स पर ‘वीटा और वर्जिनिया’ पर पोस्ट प्रोडक्शन में काम चल रहा है

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।