ताज़ा खबर :
prev next

जूतों में रखकर नोटों की चोरी करने वाला नोट प्रेस ऑफिसर गिरफ्तार, 90 लाख जब्‍त

जूतों में रखकर नोटों की चोरी करने वाला नोट प्रेस ऑफिसर गिरफ्तार, 90 लाख जब्‍त

नई दिल्ली केंद्र सरकार ने नोटबंदी के जरिए 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों को बंद कर 500 और 2000 रुपये के नए नोट छापने का फैसला भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने के लिए लिया था, लेकिन अब नोट छापने वाली प्रेस के अंदर ही एक अधिकारी द्वारा भ्रष्टाचार का हैरतअंगेज मामला सामने आया है

घटना मध्य प्रदेश के देवास बैंक नोट प्रेस में डिप्टी कंट्रोलर मनोहर वर्मा को शुक्रवार को 200 रुपये के नए नोटों की दो गड्डियां चुराकर ले जाते गिरफ्तार कर लिया गया, जिसके बाद बीते 8 महीने से चल रही इस अजीबोगरीब चोरी का खुलासा हुआ। देवास बैंक नोट के इस अधिकारी को गिरफ्तार करने के बाद सीआईएसएफ ने जब ऑफिस में उसके डस्टबिन और लॉकर से 26 लाख 9 हजार 300 रुपये के नए नोट बरामद हुए। अफसर के घर की भी तलाशी ली गई। हैरानी की बात यह है कि मनोहर वर्मा सिर्फ रिजेक्टेड नोट ही चुराता था

कैसे करता था चोरी 

मनोहर वर्मा के घर पर छापेमारी के दौरान दिवान के अंदर जूते के डिब्बों और कपड़े की थैलियों में छिपाकर रखे गए 64.5 लाख रुपये के नए नोट मिले। सबसे रोचक बात यह है कि अधिकारी रिजेक्ट कर दिए गए नोटों की चोरी करता था। दरअसल मनोहर वर्मा सुपरवाइजर स्तर का अधिकारी था और उस श्रेणी में पदस्थ था जहां त्रुटिपूर्ण नोटों की छंटाई का काम होता है

चूंकि मनोहर वर्मा उच्च पदस्थ अधिकारी था, इसलिए न तो उसके लॉकर की जांच होती थी और न ही ऑफिस में आते-जाते उसकी तलाशी ली जाती थी। इसी का फायदा उठाकर मनोहर वर्मा कपड़ों और जूते में छिपाकर नोटों की चोरी करता था। सीआईएसएफ ने मनोहर वर्मा को पुलिस को सौंप दिया है और पुलिस ने नोट चुराने के आरोप में उन्हें गिरफ्तार कर लिया है पूछताछ में मनोहर वर्मा ने नोट चुराकर ले जाने की बात स्वीकार कर ली है उसने यह भी बताया कि वह सर्दियों में जैकेट में छिपाकर भी नोट ले जाता था। 

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।