ताज़ा खबर :
prev next

पुलिस डिपार्टमेंट में भ्रष्टाचार नहीं था मंजूर, इस दरोगा ने छोड़ दी नौकरी

पुलिस डिपार्टमेंट में भ्रष्टाचार नहीं था मंजूर, इस दरोगा ने छोड़ दी नौकरी

गाज़ियाबाद। हाल ही में जॉइन किये पुलिस की नौकरी से प्रशिक्षु दरोगा ने इस्तीफा दे दिया। पुलिस विभाग में हरस्तर पर भ्रष्टाचार और अधिकारियों का रवैया सही न होने का आरोप लगाते हुए चार माह पूर्व नौकरी में आए उपनिरीक्षक ने इस्तीफा दे दिया।

बुलंदशहर के गांव बांहपुर निवासी अश्विन कुमार की दरोगा के पद पर वर्ष-2011 में भर्ती हुई थी, लेकिन कोर्ट- कचहरी के चक्कर काटने के बाद 2017 में तैनाती मिली। एक सितम्बर को उन्हें प्रक्षिशु दरोगा के रूप में मांट थाने में तैनाती मिली। इसके बाद दरोगा खुद को असहज महसूस कर रहे थे। आखिरकार उन्होंने त्यागपत्र देने का निर्णय ले लिया। प्रशिक्षु दरोगा अश्विन ने त्यागपत्र एसओ को देना चाहा तो उन्होंने लेने से मना कर दिया। इस पर उन्होंने पंजीकृत डाक से एसएसपी, सीओ और एसओ को इस्तीफा भेज दिया है।

ये हैं दरोगा के आरोप

वर्ष भर में मिलने वाली 30 सीएल नहीं मिलती, थाना प्रभारी अवकाश की संस्तुति करते समय अनुचित कमेंट करते हैं। पारिवारिक समस्या में भी अवकाश नहीं मिलता, विभाग में भी रिश्वत देनी पड़ती है। टीए,डीए आदि के बिल पास कराने पर 10 प्रतिशत देना पड़ता है,केस डायरी और वाहन चालान बुक के 100-100 रुपये देने पड़ते हैं। पुलिसकर्मियों को मिलने वाले भत्ते बेहद बेतुके हैं। वहीँ आईपी ड्यूटी में जाने का कोई भत्ता नहीं मिलता। घटनाओं को मिनिमाइज किया जाता है,जिससे आम आदमी को न्याय नहीं मिल पा रहा है।

 

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।

By प्रगति शर्मा : Friday 20 अप्रैल, 2018 02:38 AM