ताज़ा खबर :
prev next

सभी समस्याओं की जड़ है आतंकवाद – सुषमा स्वराज

सभी समस्याओं की जड़ है आतंकवाद – सुषमा स्वराज

नई दिल्ली | राजधानी नई दिल्ली में चल रहे रायसीना संवाद में बोलते हुए विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज ने आतंकवाद को सभी तरह के विध्‍वंस की जड़ बताया है। उन्‍होंने कहा कि पिछले कुछ दशकों में आतंकवाद से निपटने में हमारा दृष्टिकोण मज़बूत हुआ है। वहीं सूचना और प्रसारण मंत्री स्‍मृति ईरानी ने कहा कि महिलाएं पर्याप्‍त रूप से निपुण हैं और वे अर्थव्‍यवस्‍था में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभा सकती हैं।
दिल्ली में रायसीना संवाद’ का तीसरा संस्करण चल रहा है, जिसमें 90 देशों के 150 से ज्यादा प्रतिनिधि हिस्सा ले रहे हैं। इस कार्यक्रम का मकसद न सिर्फ दुनिया के सामने मौजूद चुनौतियों का समाधान खोजना है, बल्कि दुनिया में भारत की बढ़ती भूमिका के हिसाब से नये रास्ते सुझाना भी है। सम्मेलन में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि डिजिटल के दौर में आतंकवाद की चुनौती पहले के मुकाबले ज्यादा गंभीर हुई है और इसमें चरमपंथ की भूमिका काफी अहम है। उन्होंने आतंकवाद को बड़ी समस्या बताते हुए इससे सख्ती से निपटने की अपील की है।
दिल्ली में चल रहे भारत के महत्वाकांक्षी भू-राजनीतिक सम्मेलन ‘रायसीना संवाद के तीसरे संस्करण के दूसरे दिन क्षेत्रीय और अंतराराष्ट्रीय राजनीति पर जमकर मंथन हुआ । रायसीना डायलॉग का इस वर्ष का विषय है विघटनकारी बदलावों का प्रबंधन- ,विचार, संस्थाएं और धारणाएं। केंद्र सरकार के तमाम मंत्रियों के साथ ही दुनिया भर से आए तमाम नेताओ, अधिकारियों और राजनयिकों ने इस मसले पर अपने विचार साझा किए । सम्मेलन में सबसे ज्यादा जिक्र हुआ आतंकवाद का । विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि डिजिटल के दौर में आतंकवाद की चुनौती पहले के मुकाबले ज्यादा गंभीर हुई है और इसमें चरमपंथ की भूमिका काफी अहम है । उन्होंने आतंकवाद को बड़ी समस्या बताते हुए इससे सख्ती से निपटने की अपील की है।
वहीं आतंकवाद पर सेना प्रमुख बिपिन रावत ने भी खुलकर बात की। उन्होंने आतंकियों और उनकी मदद करने वाले देशों की पहचान करके उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की। सम्मेलन में आर्थिक मसलों पर भी बात हुई और मजबूत होती भारतीय अर्थव्यवस्था की चर्चा हुई । वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि सरकार अगले पांच सालों में भारत को पांच खरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का महत्वाकांक्षी लक्ष्य रखा गया है ।

डिजिटल के दौर में आतंकवाद की चुनौती पहले के मुकाबले ज्यादा गंभीर हुई है और इसमें चरमपंथ की भूमिका काफी अहम है। – सुषमा स्वराज

आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।

By हमारा गाज़ियाबाद ब्यूरो : Tuesday 20 फ़रवरी, 2018 08:45 AM