ताज़ा खबर :
prev next

अस्पतालों में दवा सप्लाई करने से दवा कंपनियों ने खड़े किये हाथ

अस्पतालों में दवा सप्लाई करने से दवा कंपनियों ने खड़े किये हाथ

गाज़ियाबाद। गाजियाबाद के सरकारी अस्पतालों पर शासन से दवाओं का बजट नहीं मिलने से करोड़ों रुपए का उधार हो गया है। अस्पतालों में दवा सप्लाई करने वाली कंपनियों ने भी हाथ खड़े कर दिए हैं। जिसके बाद जिला एमएमजी और संयुक्त अस्पताल में दवाओं की किल्लत शुरू हो गई है। अस्पतालों में कई दवा खत्म हो चुकी हैं और मरीजों को खाली हाथ वापस लौटना पड़ रहा है।

एमएमजी, कंबाइंड और जिला महिला अस्पताल को पिछले 7 महीनों से भी ज्यादा समय से दवाओं का बजट जारी नहीं किया गया है। हालात यहां तक बिगड़ गए हैं कि अस्पतालों में दवा सप्लाई करने वाली कंपनियों ने भी अब दवा सप्लाई करने से हाथ खड़े कर दिए हैं। गौरतलब है कि शासन स्तर से अस्पतालों को हर 3 महीने में बजट जारी किया जाता है।

इस बजट से अस्पतालों में मरीजों के लिए दवाओं से लेकर अन्य जरूरी सुविधाएं जुटाई जाती हैं। पिछले साल शासन ने 4 की जगह एक बार ही अस्पतालों के नाम पर बजट जारी किया था। नया साल शुरू होने के 15 दिन बाद भी शासन ने अस्पतालों को दवाओं का बजट जारी नहीं किया है। अस्पतालों से जुड़े सूत्रों का कहना है कि देनदारी अब करोड़ों रुपए में पहुंच गई है और अस्पताल में दवा सप्लाई करने वाली कंपनियों ने भी अब दवा सप्लाई करने से हाथ खड़े कर दिए हैं।

इस संबंध में लगातार शासन को लिखा जा रहा है, लेकिन शासन की ओर से कोई जवाब नहीं दिया जा रहा। कंबाइंड अस्पताल में दवाओं का स्टॉक भी खत्म होने को है, दवाएं खत्म होने पर मरीजों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। ऐसा ही हाल जिला एमएमजी अस्पताल और जिला महिला अस्पताल का भी है।

 

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।

By प्रगति शर्मा : Thursday 22 फ़रवरी, 2018 14:24 PM