ताज़ा खबर :
prev next

अब तक ₹3,500 करोड़ की 900 से ज्यादा संपत्तियाँ हो चुकी हैं जब्त

अब तक ₹3,500 करोड़ की 900 से ज्यादा संपत्तियाँ हो चुकी हैं जब्त

नई दिल्ली | आयकर विभाग ने 900 से ज्यादा फर्जी मालिकों की ‘बेनामी’ संपत्तियों को जब्त किया है। करीब 3,500 करोड़ रुपये की इन संपत्तियों में फ्लैट्स, दुकानें, आभूषण और वाहन शामिल हैं। आधिकारिक बयान में गुरुवार (11 जनवरी) को यह जानकारी दी गई। केंद्रीय वित्त मंत्रालय ने यहां एक बयान जारी कर कहा कि कर अधिकारियों ने यह कार्रवाई बेनामी संपत्ति लेनदेन निषेध अधिनियम के तहत की है। यह कानून एक नवंबर, 2016 से प्रभावी हुआ है। बयान में कहा गया, “विभाग ने साल 2017 के मई में पूरे भारत में अपने जांच निदेशालयों के तहत 24 समर्पित बेनामी निषेध इकाइयों (बीपीयूज) की स्थापना की है, ताकि बेनामी संपत्तियों पर तेजी से कार्रवाई की जा सके।

मंत्रालय ने कहा, “विभाग द्वारा किए गए गहन प्रयासों के कारण, अधिनियम के तहत 900 से अधिक संपत्तियों को अटैच किया गया है, जिसमें भूखंड, फ्लैट्स, दुकानें, आभूषण, वाहन, बैक खातों में जमा, सावधि जमा शामिल है।” बयान में कहा गया कि अटैच की गई संपत्तियों का मूल्य 3,500 करोड़ रुपये से अधिक है, जिसमें 2,900 करोड़ रुपये की अचल संपत्तियां शामिल हैं।

बेनामी संपत्ति कानून के तहत दोषियों को सात साल तक का सश्रम कारावास और संपत्ति के उचित बाजार मूल्य का 25 प्रतिशत तक जुर्माने का भी प्रावधान है। आयकर विभाग ने मई 2017 में देश भर में अपने अन्वेषण निदेशालय के तहत 24 खास बेनामी रोकथाम इकाइयां गठित की हैं ताकि इस कानून का अनुपालन आसान किया जा सके। उल्लेखनीय है कि यह कानून एक नवंबर 2016 से प्रभावी हुआ है।

हमारे गाज़ियाबाद के राजनगर, कविनगर, इंदिरापुरम, वैशाली, वसुंधरा और कौशांबी जैसे इलाकों में भी देश के कई नामी नेताओं और अधिकारियों ने बेनामी संपत्ति खरीदी हुई है। यदि आप ऐसी किसी बेनामी संपत्ति के बारे में जानते हैं तो उसके बारे में आयकर विभाग को सूचना देकर एक जिम्मेदार नागरिक होने का फर्ज निभाए।

आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।

By हमारा गाज़ियाबाद ब्यूरो : Monday 22 जनवरी, 2018 05:54 AM