ताज़ा खबर :
prev next

इसरो आज छोड़ेगा अपना 100वां उपग्रह, श्रीहरिकोटा से होगी PSLV C-40 की उड़ान

इसरो आज छोड़ेगा अपना 100वां उपग्रह, श्रीहरिकोटा से होगी PSLV C-40 की उड़ान

गाज़ियाबाद | वर्ष 2018 के पहले प्रक्षेपण में आज भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) श्रीहरिकोटा से अपने 100वें उपग्रह का प्रक्षेपण करेगा। इस उपग्रह के साथ 30 अन्य उपग्रहों को भी अंतरिक्ष में पहुंचाया जाएगा। यह मिशन देश के अंतरिक्ष अनुसंधान कार्यक्रम के इतिहास में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि होगा।
एक साथ 31 उपग्रह छोड़ने की उल्टी गिनती शुरू कल हो चुकी है। इस उड़ान में भारत के तीन और छह अन्य देशों के 28 उपग्रह शामिल हैं। इसरो के जन संपर्क अधिकारी ने बताया, ‘श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से शुक्रवार सुबह 9:28 बजे पीएसएलवी-सी40 रॉकेट छोड़े जाने के 24 घंटे पूर्व गुरुवार को उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है।’
भारतीय उपग्रहों में से एक 100 किलोग्राम का माइक्रो सैटेलाइट और एक पांच किलोग्राम का नैनो सैटेलाइट शामिल है। बाकी 28 सैटेलाइट कनाडा, फिनलैंड, फ्रांस, दक्षिण कोरिया, ब्रिटेन और अमेरिका के हैं। 31 उपग्रहों का कुल वजन 1323 किलोग्राम है। इसरो ने कहा कि वह अगस्त में नेविगेशन उपग्रह आइआरएनएसएस-1एच के असफल प्रक्षेपण के बाद पहले ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसएलवी) मिशन के साथ फिर से खेल में वापसी कर रहा है। इसरो के उपग्रह केंद्र (आइएसएसी) के निदेशक एम. अन्नादुरई ने कहा कि पीएसएलवी-सी40 के जरिए मौसम की निगरानी करने वाले कार्टोसेट-2 श्रृंखला के उपग्रह सहित 31 उपग्रह प्रक्षेपित किए जाएंगे।
इन तीन भारतीय उपग्रहों के साथ इसरो अपने उपग्रहों का शतक पूरा करेगा। एस्ट्रोसेट पर एक प्रदर्शनी के अवसर पर अन्नादुरई ने कहा, पीएसएलवी-सी40 के साथ हम खेल में फिर से वापसी करेंगे। पिछले साल 31 अगस्त को इसी तरह के रॉकेट से नौवहन उपग्रह आईआरएनएसएस-1 एच लॉन्च किया गया था, लेकिन हीट शील्ड न खुलने की वजह से सैटेलाइट रॉकेट के चौथे चरण में असफल हो गया था।

इसरो के वैज्ञानिकों की सफलता देश के लिए गर्व की बात है। इसरो की सफलता की बदौलत ही आज भारत की गिनती अन्तरिक्ष अनुसंधान के क्षेत्र में विश्व के अग्रणी देशों में होती है।

आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।

By हमारा गाज़ियाबाद ब्यूरो : Monday 22 जनवरी, 2018 05:50 AM