ताज़ा खबर :
prev next

लालकिले हमले का संदिग्ध आरोपी बिलाल अहमद 18 साल बाद गिरफ्तार

लालकिले हमले का संदिग्ध आरोपी बिलाल अहमद 18 साल बाद गिरफ्तार

नई दिल्ली | वर्ष 2000 में लाल किले पर हुए हमले के लिए जिम्मेदार मुस्लिम आतंकियों में से एक बिलाल अहमद आखिरकार पुलिस की गिरफ्त में आ ही गया। बिलाल को गुजरात पुलिस की स्पेशल सेल ने एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया। फिलहाल पुलिस उसे लोधी कॉलोनी स्थित स्पेशल सेल के दफ्तर में लेकर गई है और पूछताछ जारी है।

पुलिस सूत्रों के अनुसार 22 दिसम्बर 2000 को लाल किले पर कुछ आतंकियों ने हमला किया था। आतंकियों ने वहां मौजूद सुरक्षाकर्मियों पर अंधाधुध गोलियां चलाई थी। इस हमले में तीन सुरक्षाकमिर्यों की मौत हो गई थी। इस संबंध में कोतवाली थाने में मामला दर्ज किया गया था। घटना के कुछ समय बाद ही आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैय्यबा ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी। इस मामले में पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए 11 लोगों को सेशन कोर्ट ने सजा सुनाई है। इस मामले की छानबीन के दौरान यह पता चला था कि हवाला के जरिये विभिन्न बैंक खातों में 29.50 लाख रुपये भेजे गए हैं। इनमें से एक बैंक खाता बिलाल अहमद कावा नामक व्यक्ति का भी था। यह रकम मुख्य साजिशकर्ता मो. आरिफ उर्फ अशफाक ने बैंक खातों में भेजी थी।

इस रकम का इस्तेमाल हमले के लिए साधन जुटाने में किया गया था। इस हमले के बाद से बिलाल फरार चल रहा था। वह कश्मीर में छिपकर रह रहा था। गुजरात एटीएस को सूचना मिली थी कि बिलाल श्रीनगर से दिल्ली आ रहा है। उन्होंने यह जानकारी स्पेशल सेल के साथ सांझा की। जिसके बाद दोनों टीमों ने मिलकर एयरपोर्ट पर आते ही बिलाल को पकड़ लिया। इस मामले के मुख्य साजिशकर्ता मो. आरिफ को दिल्ली हाईकोर्ट फांसी की सजा सुना चुकी है।

भारत में कुछ देश द्रोही ताक़तें पाकिस्तान के साथ मिलकर देश को कमजोर बनाने में लगातार प्रयासरत हैं। दुर्भाग्य से देश के कुछ स्वार्थी नेता भारतीय अल्पसंख्यकों को देश द्रोह के लिए उकसा रहे हैं। सरकार को चाहिए कि वह आलोचनाओं कि परवाह किए बिना इन देशद्रोहियों को सलाखों के पीछे पहुंचाने के मिशन में लगातार काम करती रहे।

आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।

By हमारा गाज़ियाबाद ब्यूरो : Monday 26 फ़रवरी, 2018 04:50 AM