ताज़ा खबर :
prev next

क्या आप मिले हैं इस युवा से..? डॉक्टर की एक गलती और हमेशा के लिए दिव्यांग बन गया राहुल

क्या आप मिले हैं इस युवा से..? डॉक्टर की एक गलती और हमेशा के लिए दिव्यांग बन गया राहुल

गाज़ियाबाद। महज 3 वर्ष की आयु में एक झोलाछाप डॉक्टर ने इस युवा को हमेशा के लिए दिव्यांग बना दिया। डॉक्टर की एक गलती जिसे विजयनगर में रहने वाले राहुल आजतक भुगत रहे हैं। आइये अवगत कराते हैं आपको इनकी जिन्दगी में आये उन उतार चढ़ाव के बारे में जिसे पारकर आज ये नया गाजियाबाद रेलवे स्टेशन क्रॉसिंग पर ईमानदारी के साथ पेटीज बेच रहे हैं।

25 वर्षीय राहुल बताते हैं कि जब इनकी उम्र 3 साल थी तब इन्हें तेज़ बुखार हुआ। उस तेज़ बुखार में घर के पास के ही डॉक्टर ने इन्हें इंजेक्शन लगा दिया। इंजेक्शन लगते ही इनका पूरा शरीर अकड़ने लगा और निचले हिस्से ने काम करना बंद कर दिया। लाख इलाज कराया लेकिन दोनों पैर सही नहीं हो सके। डॉक्टर ने बाद में अपनी गलती मानी तबतक बहुत देर हो चुकी थी। डॉक्टर तो अब इस दुनिया में नहीं रहा लेकिन राहुल के हाथ में उम्र भर के लिए बैसाखी थमा गया।

राहुल के परिवार में माँ है और एक बहन, दो बड़े भाई भी हैं जो अपना अलग कारोबार करते हैं। बचपन में ही बाप का साया सिर से उठ गया इसलिए पढ़ाई पूरी नहीं हो सकी। इन्होने केवल 5वीं तक की पढ़ाई की है। पिछले 4 साल से राहुल यादव नया गाजियाबाद स्टेशन के रेलवे फाटक पर पेटीज बेच रहे हैं। डेली का 300 रुपये कमाते हैं। इन्ही पैसों से घर और खुद का खर्च चलता है। काशीराम आवास योजना के तहत इनका खुद का घर है।

जहां ये अपनी पेटीज का ठेला लगाते हैं उनके आसपास के लोगों ने बताया कि राहुल का स्वभाव बहुत ही अच्छा है। आतेजाते हर जरूरतमंदो की ये मदद करते हैं। शाम को जब राहुल घर जाते हैं तो इनका ठेला पास का ही कोई दुकानदार किनारे लगा देता है। राहुल को अपने भविष्य की चिंता नहीं है क्यूंकि अपनी मेहनत के बलबूते कुछ न कुछ अच्छा कर ही लेंगे लेकिन कभी-कभी ये सोच के उदास हो जाते हैं कि इनसे शादी कौन करेगा।

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।