ताज़ा खबर :
prev next

वंदे मातरम विवाद पर मेरठ में फिर भिड़े आपस में बसपा और भाजपा पार्षद

वंदे मातरम विवाद पर मेरठ में फिर भिड़े आपस में बसपा और भाजपा पार्षद

मेरठ | मेरठ में राष्ट्र गीत वंदे मातरम गायन को लेकर निगम पार्षदों की बोर्ड मीटिंग के दौरान जमकर हंगामा हुआ और दोनों पक्षों की ओर से तीखे संवाद हुए। बात इतनी बढ़ गई कि विवाद को शांत करने के लिए पुलिस को बीच में आना पड़ा। विवाद की शुरुआत तब हुई जब बसपा पार्षदों ने वंदे मातरम् गाने की बजाए इसका ऑडियो चला दिया। इस पर भाजपा पार्षद खासे नाराज हो गए। बोर्ड मीटिंग में ही बसपा पार्षदों के खिलाफ नारेबाजी की। पूरी घटना का वीडियो न्यूज एजेंसी एएनआई ने भी जारी किया है। इसमें दोनों पक्षों के बीच चल रही तीखी बहस को साफ तौर पर देखा जा सकता है।

बता दें कि वंदे मातरम् गायन को लेकर मेरठ नगर निगम में इससे पहले भी हंगामा हो चुका है। हाल के दिनों में चुनकर आईं बीएसपी की मेयर सुनीता वर्मा वंदे मातरम् गायन के दौरान कथित तौर पर अपनी सीट पर बैठी हुई देखी गईं। इसपर भाजपा के पार्षदों ने उनके खिलाफ जमकर नारेबाजी की। बाद में इसपर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने कहा था कि यहां विवाद का कोई कारण नहीं होना चाहिए क्योंकि सिर्फ राष्ट्रीय गान ‘जन गण मन’ बोर्ड मीटिंग से पहल बजाया जाएगा। हालांकि इससे पहले मेरठ के भाजपा मेयर रहे हरिकांत अहलुवालिया ने राष्ट्रीय गीत एमएमसी की बोर्ड मीटिंग से पहले बजाने को जरूरी घोषित किया था। इस दौरान कहा गया कि जो इससे इंकार करेगा उसे निलंबित कर दिया जाएगा।

राष्ट्रगीत को लेकर ओछी राजनीति हो रही है। एक दल विशेष के सदस्य दूसरे दलों के पार्षदों को उकसाने के लिए राष्ट्रगीत का विरोध कर रहे हैं जो गलत है।

आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।

By हमारा गाज़ियाबाद ब्यूरो : Thursday 26 अप्रैल, 2018 22:38 PM