ताज़ा खबर :
prev next

भारतीय वायुसेना दिवस पर दिखेगी महिला पायलटों की ताकत

भारतीय वायुसेना दिवस पर दिखेगी महिला पायलटों की ताकत

गाज़ियाबाद। महिलाओं की ताकत इस बार वायुसेना दिवस परेड से लेकर मेट्रो स्टेशन तक की सुरक्षा में दिखेगी। एक ओर जहां एयरफोर्स डे पर महिला पायलटों का शौर्य और साहस दिखाई देगा, वहीं सीआइएसएफ बटालियन से निकली महिला कमांडो महत्वपूर्ण स्थानों पर सुरक्षा का जिम्मा संभालेंगी।

भारतीय वायुसेना में महिला फाइटर पायलटों की ट्रेनिंग दो साल पहले से ही शुरू की गई है। इसी कड़ी में अब महिला पायलटों की संख्या बढ़ने लगी है। वायुसेना अधिकारियों ने बताया कि इस वर्ष एयरफोर्स डे परेड में ही नहीं बल्कि ग्लोबमास्टर और हरक्युलिस टीम के साथ भी महिला वायु सैनिक दिखाई दे सकती हैं। इसके अलावा आकाशगंगा टीम और सारंग टीम में महिला हेलीकॉप्टरों की भागीदारी बढ़ाई जाएगी। वहीं एयरफोर्स स्टेशन की सुरक्षा में तैनात महिला वायुसैनिक अब आसपास के जरूरतमंद बच्चों को पढ़ाएंगी। एयरफोर्स अधिकारियों ने बताया कि वायुसैनिकों की पत्नियों के लिए बनाई गई संस्था (एफवा एयर फोर्स वाइव्ज एसोसिएशन) भी लगातार महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने में कार्यरत है। इसके अलावा हिंडन एयरफोर्स स्टेशन के आसपास रहने वाली गरीब महिलाओं को पढ़ाने में भी अफवा महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है।

सौ महिला कमांडों संभालेंगी महत्वपूर्ण स्थानों की सुरक्षा

केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल सीआइएसएफ की पांचवी रिजर्व बटालियन की सौ से अधिक महिला कमांडो विभिन्न स्थानों की सुरक्षा संभालेंगी। बीते कुछ साल से सीआइएसएफ ने महिला कमांडो को ट्रे¨नग देना शुरू किया है। इसी कड़ी में पांचवीं बटालियन की करीब सौ महिला कमांडो मेट्रो स्टेशन, एतिहासिक स्थल, एयरपोर्ट और अन्य जगहों पर सुरक्षा का जिम्मा संभालेंगी। साथ ही सीआईएसएफ दिवस पर भी महिला कमांडो की ताकत लोगों को देखने को मिलेगी।

दो सौ महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने का लक्ष्य

वसुंधरा वुमेंस सोसायटी की अध्यक्ष किरन श्रीवास्तव बीते कुछ साल से महिलाओं को आत्मरक्षा और आत्मनिर्भर बनने के गुर सिखा रही हैं। किरन ने बताया कि साल 2018 में उन्होंने करीब दो सौ महिलाओं और युवतियों को आत्मरक्षा के साथ आत्मनिर्भर बनाने की योजना तैयार की है। महिलाओं को आत्मरक्षा के लिए कराटे, बाक्सिंग और जूडो की ट्रेनिंग दी जाएगी। इसके अलावा आत्मनिर्भर बनाने के लिए उन्हें सिलाई, कढ़ाई, बुनाई और हैंडीक्राफ्ट की ट्रेनिंग भी दी जाएगी।

बेटियों को पढ़ाने के लिए जागरूक करेगा आइएमए

अस्पताल में बेटियों के जन्म से लेकर उनके टीकाकरण और अन्य समय पर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन लोगों को बेटियों को पढ़ाने के लिए जागरूक करेगा। आइएमए वेस्ट के संयुक्त सचिव डा. सचिन भार्गव ने बताया कि डॉक्टर अभिभावकों को जागरूक करने में अहम भूमिका निभा सकते हैं। ऐसे में लोगों को बेटियों को पढ़ाने के प्रति जागरूक करने के लिए यह अभियान शुरू किया जाएगा। बेटी पढ़ेगी तो वह सशक्त होगी। बेटियों को पढ़ाने के लिए लोगों को जागरूक करने के लिए पोस्टर, पंफलेट और अन्य माध्यमों का सहारा भी लिया जाएगा।

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।