ताज़ा खबर :
prev next

अब सिर्फ लाइनमैन ही नहीं लाइन ‘वुमेन’ भी सुधारेंगी बिजली

अब सिर्फ लाइनमैन ही नहीं लाइन ‘वुमेन’ भी सुधारेंगी बिजली

नई दिल्ली। अब तक आपने लाइनमैन के रूप में पुरुषों को ही विद्युत लाइन दुरुस्त करते हुए देखा होगा। ऊंचे खंभों पर रस्सी के सहारे लटक कर हाई वोल्टेज विद्युत लाइनों को सुधारना कोई आसान काम नहीं है। लेकिन अब आप महिलाओं को भी यह कठिन कार्य करते हुए देख सकते हैं।

मध्यप्रदेश पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने पहले चरण में 19 युवतियों को लाइन स्टाफ में नियुक्ति दी है। प्रशिक्षण के बाद विभिन्न जोन व वितरण केंद्रों में इनकी तैनाती भी कर दी गई है। कंपनी के प्रबंध निदेशक आकाश त्रिपाठी के मुताबिक, हमने सोचा कि क्यों न नया प्रयोग किया जाए। युवतियों ने इसमें रुचि दिखाई। लाइन परिचारिका पद की परीक्षा दी और चयनित हुईं। उन्हें फिजिकल फिटनेस की परीक्षा भी देनी पड़ी। इस तरह पहले बैच में कुल 19 युवतियों का चयन लाइन परिचारिका पद के लिए हुआ।

अधिकारियों के मुताबिक, इनके हौसले बुलंद हैं। प्रथम बैच में रोशनी अश्ने, मोनिका रायकवार, देवशीली पांचे, दीक्षा पटेल, कश्मा भगत, सपना साहू, प्रिया पंवार, वर्षा मार्कों, इंदु कुमरे, पूजा मुडिया, रीना बालुंदा, किरन आर्शीया, संध्या बांकरिया, लता पिपरिया, अंकिता पाटिल, मोना कतिया, किरण आर्य, वर्षा धोके, निधि शिवरे शामिल हैं।

आज महिलाएं सभी क्षेत्रों में काम कर रही हैं। वह विद्युत लाइन से जुड़ा काम क्यों नहीं कर सकते। हर काम में थोड़ा जोखिम तो उठाना ही पड़ता है।