ताज़ा खबर :
prev next

वर्दी ने किया फिर शर्मसार – हरियाणा में सिपाही ने ही किया बलात्कार

वर्दी ने किया फिर शर्मसार  – हरियाणा में सिपाही ने ही किया बलात्कार

फ़रीदाबाद | पुलिस का काम न सिर्फ अपराधियों को पकड़ना होता है बल्कि आम जनता की हिफाज़त की ज़िम्मेदारी भी पुलिस के जवानों की ही होती है। मगर हरियाणा पुलिस के एक सिपाही ने जेल में बंद अपने देवर से मिलने आई एक महिला के साथ बलात्कार कर अपनी हैवानियत कर परिचय दिया है। घटना हरियाणा के फरीदाबाद की है जहां मंगलवार की दोपहर महिला अपने भाई के साथ नीमका जेल में अपने देवर से मिलने के लिए गई थी। महिला ने जब अपने देवर से मुलाकात कर ली तो वहीं पास में खड़ा जेल वार्डन उसे कुछ बात करने के बहाने एक कमरे में लेकर चला गया।

इसके बाद आरोपी ने महिला के साथ जबरन आप्रकृतिक संबंध बनाए और जब महिला मदद के लिए चिल्लाई तो आरोपी ने उसका मुंह बंद कर दिया। इसके बाद महिला ने घटना की सूचना फोन कर अपने परिवार को बताई और सभी को जेल में बुलवा लिया। जेल पहुंचे महिला के परिजनों ने प्रशासन से आरोपी के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए जमकर हंगामा किया। महिला के परिजन जब शांत नहीं हुए तो पुलिस ने देर रात आरोपी सिपाही के खिलाफ शिकायत दर्ज की। फिलहाल आरोपी सिपाही की पहचान नहीं हुई है। पुलिस जेल में लगे सीसीटीवी खंगाल रही है और साथ ही जेल के अन्य कैदियों और उनके परिजानों से पूछताछ कर रही है जो उस समय अपनों से मिलने के लिए जेल आए थे। इस मामले पर बात करते हुए बल्लभगढ़ पुलिस उपायुक्त विष्णु दयाल ने बताया कि महिला के सामने जेल के सभी कर्मियों की परेड कराई जाएगी ताकि वह आरोपी की पहचान कर सके। आज (गुरुवार को) होने वाली इस परेड में अगर महिला आरोपी को पहचान लेती है तो उस जेल कर्मचारी के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी।

  • अपमान की पीड़ा के चलते महिला उत्पीड़न के अधिकतर मामले प्रकाश में नहीं आते हैं।
  • उत्पीड़न की शिकार महिला को एक फाइटर का ओहदा देकर सामाजिक संगठनों को उसकी लड़ाई में आर्थिक और मानसिक रूप से मदद देनी चाहिए।
  • पुलिसकर्मियों का व्यवहार बदलने के लिए नियमित रूप से ट्रेनिंग की जरूरत है।
  • दोषी पुलिसकर्मियों को तत्काल बर्खास्त कर फास्ट ट्रैक कोर्ट की तर्ज पर थर्ड पार्टी जांच हो और 15 दिन के भीतर रिपोर्ट दाखिल करने का नियम बनाया जाए।

 

आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।

By हमारा गाज़ियाबाद ब्यूरो : Monday 22 जनवरी, 2018 23:56 PM