ताज़ा खबर :
prev next

आखिर गाज़ियाबाद का गुनाहगार कौन ?

आखिर गाज़ियाबाद का गुनाहगार कौन ?

गाज़ियाबाद। गुनहगार नाम सुनकर ही हमारे जहन में किसी अपराधी, हत्यारे या लूटेरे का दृश्य बनने लगता है। लेकिन क्या गुनहगार केवल वे ही हैं जिसने गुनाह किया है ? क्या वे गुनहगार नहीं जो गुनाहो व गुनाहगारों दोनों को बढ़ावा देने का काम करते हैं।

क्या इस देश का नागरिक होने के नाते हमारा कोई कर्तव्य नहीं ? क्यों हम अपने साथ हो रहे हर गलत कार्यो के लिये औरों को दोष देते हैं ? शहर की सफाई के लिये निगम को दोष, बढ़ते अपराध के लिये कानून व्यवस्था व पुलिस कर्मियों को दोष, सड़क दुर्घटना के लिये ट्रैफिक पुलिस को दोष। ये सारे दोष दूसरों पर ही क्यों स्वयं पर क्यों नहीं ? क्या दोषी वे नहीं जो घर को साफ रखने के चक्कर में सारा कूड़ा सड़क पर फेंक देते हैं ? क्या दोषी वे नहीं जो तेज रफ्तार वाहन चलाते हैं और स्वयं के साथ दूसरों को भी दुर्घटना का शिकार बनाते हैं ? क्या दोषी वे नहीं जो ट्रैफिक नियमों का उलंघन करते हैं ? क्या वे दोषी नहीं जो अवैध अतिक्रमण कर लोगों के परेशानियों का कारण बनते हैं, क्या दोषी वे नहीं जो अवैध रूप से बिजली का प्रयोग करते हैं या फिर क्या दोषी वे नहीं जो अपने आंखो के सामने किसी और के साथ हो रहे आपराधिक घटना का विरोध करने के बजाय उसे नज़रअंदाज कर देते हैं ?

फिर हम क्यों हर काम का जिम्मेदार केवल प्रशासन को या कानून को मानते हैं ? मेरे विचार से देश और नागरिकों की सुरक्षा की जिम्मेदारी जितनी कानून की है उतनी ही नागरिकों की भी है। हर काम के लिए दूसरों को दोष देने वाले लोगों को ये खुद समझना होगा गाज़ियाबाद का गुनाहगार कौन है ?

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।