ताज़ा खबर :
prev next

इन लड़कियों ने ड्रेस कोड के भेदभाव से निपटने के लिए उठाया ये कदम..

इन लड़कियों ने ड्रेस कोड के भेदभाव से निपटने के लिए उठाया ये कदम..

नई दिल्ली। दुनिया में महिलाओं को पुरुषों की बराबरी के तमाम उदाहरण देखने को मिल जाते हैँ। लेकिन ट्यूनीशिया की लड़कियों ने स्कूल में ड्रेस कोड में हो रहे भेदभाव के खिलाफ किसी और की मदद नहीं ली बल्कि खुद ही उसका निपटारा किया।

दरअसल ट्यूनीशिया के उच्च विद्यालयों में लड़कों और लड़कियों के लिए एक जैसा ड्रेस कोड नहीं है। सिर्फ लड़कियों के लिए ड्रेस तय है जबकि लड़के अपने मन मुताबिक कपड़े पहनने के लिए आजाद हैं। इस भेदभाव के खिलाफ लड़कियां आवाज उठा रही हैं। यहां के एक स्कूल में एक दिन लड़कियां विरोध जताते हुए अपने तय यूनिफार्म छोड़ कर सफेद टी-शर्ट पहनकर आ गईं और भेदभाव खत्म करने की मांग करने लगी। ट्यूनीशिया के ज्यादातर स्कूलों में छात्र-छात्राओं को स्कूल के नियम पर हस्ताक्षर करने होते हैं। इसमें ड्रेस कोड सिर्फ लड़कियों पर लागू होता है।

जानकारी के मुताबिक, सुपरवाइजरों ने स्कूल की उच्च कक्षा की छात्राओं को स्मॉक (स्मॉक ढीली कमीज जैसा एक लिबास है) पहनने के लिए कहा और ऐसा नहीं करने वाली लड़कियों को घर भेज देने की चेतावनी दी। चौकने वाली बात तो यह थी कि यह चेतावनी दर्शनशास्त्र की कक्षा में दी गई थी। यह कक्षा मानव शरीर पर आधारित था। एक 18 वर्षीय छात्रा के मुताबिक इस अन्याय ने बहुत लड़कियों को सोशल नेटवर्क पर अपनी बातें रखने के लिए प्रेरित किया है।

यदि इसी तरह महिलाएं अपने अधिकारों के लिए आगे बढेंगी तो अवश्य ही इस समाज से एक दिन भेदभाव जैसी भावना समाप्त हो जाएंगी। 

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।