ताज़ा खबर :
prev next

भाजपाइयों ने मनाया पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी का जन्मदिन

भाजपाइयों ने मनाया पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी का जन्मदिन

गाज़ियाबाद। 25 दिसंबर, 1861 को इलाहाबाद (उत्तर प्रदेश) में स्वतंत्रता सेनानी और शिक्षक पंडित मदन मोहन मालवीय का जन्म हुआ था। भारत रत्न (2015) से सम्मानित और बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के संस्थापक ‘महामना’ मालवीय 1919 से 1938 तक बीएचयू के कुलपति भी रहे थे। चार बार कांग्रेस के अध्यक्ष रह चुके मालवीय ने असहयोग आंदोलन में अहम भूमिका निभाई थी।

भारत के महान स्वतंत्रता सेनानी, राजनीतिज्ञ, शिक्षाविद और समाज सुधारक मदन मोहन मालवीय का आज 156वां जन्मदिन है। मालवीय स्वभाव में बड़े सरल, उदार और शांतिप्रिय शख्स थे। शिक्षा के क्षेत्र उन्होंने दुनिया को बहुत बड़ा योगदान दिया है। साल 1916 में मालवीय ने काशी हिंदू विश्वविद्यालय की स्थापना की थी, जिसे बीएचयू के नाम से भी जाना जाता है।

मदन मोहन मालवीय का जन्म आज ही के दिन साल 1861 को प्रयाग (अब इलाहाबाद) में हुआ था। मालवीय तीन बार (1909, 1918, 1932) कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष रह चुके हैं। उन्होंने 35 सालों तक कांग्रेस की सेवा की है। भारत सरकार ने 2014 को उन्हें भारत रत्न से सम्मानित करने का ऐलान किया था। जिंदगी भर समाज की सेवा में लगे रहने वाले मालवीय ने 12 नवंबर 1946 को अपने प्राण त्याग दिए।

वहीँ  25 दिसम्बर 2017 दिन सोमवार को रामपार्क विस्तार लोनी के शोर्य वेंकट हाल मे पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी के जन्म दिन के शुभ अवसर पर भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने बड़ी धूमधाम के साथ जन्मदिन मनाया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता सेक्टर संयोजक श्री लक्ष्मण सिंह रावत द्वारा की गयी व सभा को संबोधित नवीन गुसाई ने किया।

जिसमें उपस्थित भाजपा के पूर्व प्रत्याशी वार्ड नं 46 नवीन गुसाई, हरेन्द्र सिंह गुसाई, तोता सिंह भण्डारी, सुरेन्द्र सिंह रावत, दिलबर सिंह रावत, रघुवीर सिंह रावत, यशपाल नेगी, जसवंत सिंह चौहान, कुशलानन्द पोखरियाल, सुरेश तिवारी, श्याम सिंह रावत, दीपक शर्मा, जयप्रकाश प्रजापति, देवेन्द्र दीक्षित, प्रताप सिंह रावत समेत भाजपा कार्यकता मौजूद रहें। सभा मे सबने एकसाथ संकल्प लिया कि 2019 मे सभी को साथ लेकर पार्टी को भारी बहुमत से विजयी बनाएंगे।

 

 पंडित मदन मोहन मालवीय व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जीवन से हमें कुछ सीखना चाहिए ।

 

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।