ताज़ा खबर :
prev next

साबरमती की तर्ज पर गाज़ियाबाद में बनेगा हिंडन रिवर फ्रंट कॉरिडोर

साबरमती की तर्ज पर गाज़ियाबाद में बनेगा हिंडन रिवर फ्रंट कॉरिडोर

गाज़ियाबाद। गुजरात की साबरमती नदी के 22 किलोमीटर लंबे तट की तर्ज पर गाजियाबाद में हिंडन रिवर फ्रंट कॉरिडोर बनाने की तैयारी शुरू हो गई हैं। गुजरात में चुनाव प्रचार के लिए गए भाजपा के महानगर अध्यक्ष ने गाजियाबाद के सांसद व केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह और प्रदेश के शहरी विकास मंत्री सुरेश खन्ना को हिंडन तट को संवारने की योजना सांझा की है।

गाजियाबाद की टीम ने अहमदाबाद के चीफ इंजीनियर से इस बारे में विस्तार से जानकारी ली। इसके मुताबिक नदी के दोनों किनारों पर 11 किलोमीटर के रिवर फ्रंट पर पानी सदैव बहता रहता है। शहर के सीवर के पानी का ट्रीटमेंट करने के बाद नदी में छोड़ा जाता है। नदी के पानी को साफ रखने के लिए एक विशेष मशीन लगाई गई है, जो लगातार नदी के पानी को साफ करती रहती है।

साबरमती नदी की 1152 करोड़ रुपयों की परियोजना में 30 फीसदी हिस्से को व्यवसायिक गतिविधियों के लिए प्रयोग में लाया गया है। इस पैसे से किनारों का रखरखाव और हरियाली की देखभाल की जाती है। इसके अलावा वॉटर स्पोर्ट्स, साइकिल ट्रैक, जॉगिग ट्रैक और ध्यान एवं योग करने की व्यवस्था है। 31 घाट बनाए गए हैं, साबरमती फ्रंट कॉरिडोर के इन टिप्स को क्षेत्रीय सांसद एवं केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह के साथ सांझा किया गया है।

महानगर अध्यक्ष अजय शर्मा ने बताया कि चुनाव प्रचार के दौरान पिछले कई दिन कुछ पदाधिकारियों के साथ गुजरात में रहे थे। इसी दौरान उन्होंने वहां पर साबरमती तट पर बनाए गए रिवर फ्रंट कॉरिडोर को देखा। इसे बेहद व्यवस्थित तरीके से विकसित किया गया है। इसी के चलते वह अहमदाबाद के चीफ इंजीनियर दीपक सुथार से मिले। इससे जुडे़ अन्य अफसरों के साथ भी वार्ता हुई। यहां भी अनौपचारिक वार्ता में अफसरों ने इस पहल का स्वागत किया है। लिहाजा अब तय योजना में सांसद एवं केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह से बात की गई है। वह केंद्र से बात करके इसकी राह में आ रही केंद्रीय पर्यावरण विभाग और एनजीटी की अड़चनों को दूर करेंगे। इसके अलावा सीएम योगी आदित्यनाथ और शहरी विकास मंत्री सुरेश खन्ना स्थानीय स्तर पर इस योजना को अमल जामा पहनाएंगे, ऐसा विश्वास है।

 

 

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैं आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।