ताज़ा खबर :
prev next

मिलिए राजस्थान के अरविन्द से जो गाज़ियाबाद आकर बेचते हैं मिट्टी के तवे

मिलिए राजस्थान के अरविन्द से जो गाज़ियाबाद आकर बेचते हैं मिट्टी के तवे

गाज़ियाबाद। मेहनत ही इंसान को महान बनाती है। आज कल के मजबूर युवा जो पढ़े लिखे न होने, बेरोजगार होने पर अपराधिक घटनाओं को अंजाम देते हैं। वे अपना शौक पूरा करने के लिए सड़कों पर महिलाओं व बुजुर्गों को लूटते हैं। ऐसे लोगों के सामने आज मिसाल कायम कर रहा है यह युवक। राजस्थान से गाज़ियाबाद आकर अपनी मेहनत के बलबूते पर कमा रहें हैं और अपने परिवार की चला रहें हैं अरविन्द।

23 वर्ष के अरविन्द जो 10वीं के बाद आर्थिक स्थिति खराब होने से आगे की पढाई नही कर सके। अरविन्द बताते हैं कि वह भी बाकी बच्चों की तरह पहले सड़कों पर गुब्बारे बेचते थे लेकिन जब बड़े हुए और उन्हें यह एहसास हुआ की मैं अब और ज्यादा मेहनत कर सकता हूँ तो उन्होंने मिट्टी के तवे बेचने शुरु कर दिए। इसी तरह से उनका जीवन चल रहा है। अरविन्द पिछले कई सालों से राजस्थान से माल लाकर गाज़ियाबाद, दिल्ली, चंडीगढ़ आदि विभिन्न शहरों में बेचते हैं। अरविन्द के पास रहने के लिए राजस्थान छोड़कर कोई जगह नहीं है। दूसरे शहर में अक्सर यह खाली जगह देख रात गुजार लेते हैं। हालांकि अभी सर्दियाँ बढ़ने के चलते यह गाज़ियाबाद रेलवे स्टेशन पर रात काटते हैं फिर सुबह अपने काम में लग जाते हैं।

हालांकि अरविन्द ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं हैं लेकिन यह देश की सभी ख़बरों व गतिविधियों की जानकारी रखते है। इनके पास वोटर आईडी कार्ड, आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस भी है। अपने काम के साथ-साथ समय निकालकर यह रोज अखबार भी पढ़ते हैं। अरविन्द के आस-पास दिखाई दे रहें हैं, वें उनके ही गाँव के लोग हैं, सभी एक साथ शहर आकर अपने इस कार्य को करते हैं फिर एक साथ ही राजस्थान वापस लौट जाते है।

 

 

 

 

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैं। आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।