ताज़ा खबर :
prev next

बेहद प्रभावशाली है गाज़ियाबाद का एडवर्टाइजिंग माफिया, जिला प्रशासन नज़र आता है लाचार

बेहद प्रभावशाली है गाज़ियाबाद का एडवर्टाइजिंग माफिया, जिला प्रशासन नज़र आता है लाचार

गाज़ियाबाद | गाज़ियाबाद जिले में एडवर्टाइजिंग माफिया की ताकत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि शहर में शायद ही कोई ऐसी सड़क बची हो जहां इस माफिया का कब्जा नहीं है। कहीं बीओटी के आधार पर, तो कहीं अवैध रूप से लगे होर्डिंग्स के कारण शहर की प्रमुख सड़कों पर सिर्फ बड़े-बड़े होर्डिंग्स ही नज़र आते हैं। यहाँ तक कि लोगों को सूचना देने ले लिए बने सूचना पट्टों पर भी इस माफिया का कब्जा है। बिना किसी मानदंड के बने इन बड़े-बड़े होर्डिंग्स के कारण आए दिन दुर्घटनाएँ होती रहती हैं सो अलग।

इस माफिया के तार न सिर्फ जिला प्रशासन, नगर निगम और गाज़ियाबाद विकास प्राधिकरण में फैले हुए हैं बल्कि इनके द्वारा हर साल लाखों रुपये का चढ़ावा लखनऊ में बैठे बड़े अधिकारियों और राजनैतिक दलों को चढ़ाया जा रहा है। एडवर्टाइजिंग माफिया या लॉबी से मिलने वाली पैसे की ताकत का ही नतीजा है कि अब तक कोई भी अधिकारी इनके खिलाफ प्रभावी कार्यवाही करने में सफल रहा है। कभी-कभार कोई अधिकारी हिम्मत कर एक-दो होर्डिंग हटा भी देता है तो उसे तुरंत ही लखनऊ में बैठे बड़े अधिकारियों और स्थानीय नेताओं के दबाव में आकर अपनी कार्यवाही बंद करनी पड़ती है।

हालांकि हाई-कोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक ने इन अवैध एडवर्टाइजिंग बोर्डों के खिलाफ आदेश दिए हैं, मगर शहर की हर सड़क इस बात की गवाह है कि पैसे की ताकत के सरकार का हर कानून और अदालत का आदेश बेकार हो जाता है। ऐसे में सवाल यह उठता है कि किस आधार पर योगी सरकार उत्तर प्रदेश की जनता को भ्रष्टाचार मुक्त शासन देने का दावा कर रही है।


(व्हाट्स एप के माध्यम से हमारी ख़बरें प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें )


हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।

By हमारा गाज़ियाबाद ब्यूरो : Thursday 22 फ़रवरी, 2018 04:34 AM