ताज़ा खबर :
prev next

परेशान उद्यमियों ने सौंपी अवैध बोरवेलों की लिस्ट प्रशासन को

परेशान उद्यमियों ने सौंपी अवैध बोरवेलों की लिस्ट प्रशासन को

गाज़ियाबाद | आपको शायद मालूम न हो कि गाज़ियाबाद म्युन्सिपल एरिया में बोरवेल चलने के लिए CGWA (केन्द्रीय भूगर्भ जल प्राधिकरण) से अनुमति (एनओसी) लेना अनिवार्य है। आश्चर्य की बात यह है की यह नियम अप्रैल 1999 से लागू है। परन्तु प्रशासन की उदासीनता और एनओसी लेने की अव्यवहारिक शर्तों के कारण पिछले 18 वर्षों में केवल 35 लोगों के पास ही एनओसी थी। हाल ही में एनजीटी के सख्त होने कारण प्रशासन ने इन अवैध बोरेवेल्स को सील करने की कार्यवाही शुरू की परन्तु इसकी गाज केवल उद्योगों पर ही गिरी। यहाँ यह जानना आवश्यक है कि गाज़ियाबाद क्षेत्र में 60 हज़ार से अधिक अवैध बोरवेल लगे हुए हैं।
प्रशासन की इस इकतरफा कार्यवाही से परेशान होकर उद्यमियों के संगठन IAMA ने 700 से भी अधिक अवैध बोरवेल की सूची जिला प्रशासन और उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड तथा CGWA को सौंपी है। इस सूची में लगभग 100 से अधिक सरकारी कार्यालय, 300 के करीब सरकारी पार्क, शौपिंग माल्स, पूजा घर, अस्पताल, बैंक्वेट हॉल्स, बैंक और स्कूल-कॉलेज शामिल हैं। संगठन के महासचिव अनिल कुमार गुप्ता ने बताया कि संगठन आने वाले दिनों में प्रशासन को 800 ऐसे और बोरवेल्स की सूची सौंपेगा जिनके लिए CGWA से एनओसी नहीं ली गई है। अनिल गुप्ता ने आगे बताया कि प्रशासन स्वयं नहीं जानता कि गाज़ियाबाद नगर निगम की सीमा क्षेत्र में कुल कितने बोरवेल्स हैं। और इससे भी ज्यादा आश्चर्य की बात यह है की प्रशासन ने स्वयं अपने कार्यालयों में लगे बोरवेल्स के लिए आज तक भी एनओसी नहीं ली है। अब देखना यह है की क्या प्रशासन और एनजीटी इस सूची में दिए गए अवैध बोरवेल्स के खिलाफ कब कार्यवाही करेंगे।


गाज़ियाबाद को स्वच्छ रखने में सहयोग दें। नीचे दिए लिंक पर क्लिक कर स्वच्छता एप डाउनलोड करें और कूड़े के बारे में निगम को जानकारी दें।
https://play.google.com/store/apps/details?id=com.ichangemycity.swachhbharat&hl=en


(व्हाट्स एप के माध्यम से हमारी ख़बरें प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें
हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।