ताज़ा खबर :
prev next

भगोड़े बिल्डर पंकज जैन ने किया आत्मसमर्पण, करोड़ों के टेंडरिंग घोटाले में था शामिल

भगोड़े बिल्डर पंकज जैन ने किया आत्मसमर्पण, करोड़ों के टेंडरिंग घोटाले में था शामिल

गाज़ियाबाद | करोड़ों के टेंडरिंग घोटाले में शामिल भगोड़े बिल्डर पंकज जैन ने बृहस्पतिवार को सीबीआई की विशेष अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया। अदालत ने बिल्डर की अपील को ख़ारिज करते हुए उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। नोएडा की जेएसपी कंस्ट्रक्शन कंपनी के प्रबंध निदेशक पंकज जैन साल भर से गायब था।
घोटाले में मुख्य आरोपी पूर्व मुख्य अभियंता यादव सिंह के साथ 14 आरोपियों में पंकज जैन भी शामिल है। सीबीआई ने अनुपूरक आरोप पत्र में भी जैन को आरोपी बनाया है। सीबीआई के विशेष न्यायाधीश पवन कुमार तिवारी की अदालत से बीते एक साल में करीब दर्जन भर गिरफ्तार वारंट जारी किए गए। अदालत से भगोड़े घोषित होने और कुर्की होने के बाद भी वह न तो हाजिर हुए, नहीं सीबीआई उन्हें पकड़ सकी थी। पिछले महीने जैन ने जमानत के लिए उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था। उच्चतम न्यायालय ने दो सप्ताह के भीतर निचली अदालत में समर्पण करने का आदेश दिया था। यह अवधि नौ दिसंबर को पूरी हो रही थी। इससे दो दिन पहले ही पंकज जैन ने समर्पण कर दिया।
विशेष न्यायाधीश पवन कुमार तिवारी की अदालत में वरिष्ठ अधिवक्ता सुधीर त्यागी समेत कई अधिवक्ताओं ने पंकज जैन के मिसलेनियम प्रार्थना पत्र पर बहस करते हुए जमानत देने की अपील की थी। सीबीआई के वरिष्ठ लोक अभियोजक बीके सिंह ने इसका विरोध किया। विशेष न्यायाधीश ने दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद पंकज जैन को न्यायिक हिरासत में जेल भेजने के आदेश दिए। इसके बाद जैन को जेल भेज दिया गया। सीबीआई के आरोप पत्र के 14 आरोपियों में मुख्य आरोपी पूर्व इंजीनियर यादव सिंह पत्नी कुसुमलता सिंह अब भी फरार है। 14 आरोपियों में तीन कंस्ट्रक्शन कंपनी है। शेष 11 में से जैन मिलाकर 10 आरोपी जेल में हैं। अनुपूरक आरोप में वांछित नोएडा के पूर्व सहायक अभियंता वीके मांगलिक फरार हैं। उन्हें भी जल्द समर्पण करना होगा। क्योंकि उच्चतम न्यायालय के आदेश में उन्हें भी दो सप्ताह के भीतर समर्पण करने को कहा गया है। विश्वस्त सूत्र बताते हैं कि मांगलिक आज समर्पण कर सकते हैं।

By हमारा गाज़ियाबाद ब्यूरो : Tuesday 23 जनवरी, 2018 23:31 PM