ताज़ा खबर :
prev next

डीएम कार्यालय परिसर में जलाया जा रहा कूड़ा, बेखबर अधिकारी

डीएम कार्यालय परिसर में जलाया जा रहा कूड़ा, बेखबर अधिकारी

गाज़ियाबाद। देश के सबसे प्रदूषित शहर का तमगा मिलने के बाद भी गाजियाबाद जिला प्रशासन गहरी नींद सो रहा है। प्रदूषण के लगातार बढ़ते स्तर को देखते हुए एनजीटी ने एनसीआर में खुले में कूड़ा जलाने पर पाबंदी लगा रखी है, बावजूद इसके गाजियाबाद के कई प्रशासनिक कार्यालयों के परिसर में कूड़ा जलाकर एनजीटी के आदेशों की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं।

लापरवाही की हद तो यहां तक है कि डीएम कार्यालय के परिसर में भी खुले में कूड़ा जलाया जा रहा है। गौर करने वाली बात यह है कि इस मामले में प्रशासनिक अधिकारियों से शिकायत करने और थाने में तहरीर देने के बावजूद हालात में सुधार नहीं हो रहा है। कलेक्ट्रेट परिसर में रोजाना कई स्थानों पर कूड़े के ढेर में आग लगा दी जाती है।

सामाजिक संस्था हिंडन जल बिरादरी की ओर से कूड़ा जलाने को लेकर कविनगर थाने में तहरीर दी गई है। तहरीर में कहा गया है कि कलेक्ट्रेट, एसएसपी ऑफिस और जनपद न्यायालय परिसर में रोज कूड़े के ढेर लगाकर उनमें आग लगाई जाती है। शिकायत के साथ हिंडन जल बिरादरी की ओर से साक्ष्य के तौर पर फोटो भी दी गई हैं। तहरीर में कहा गया है कि कूड़ा जलाने के कारण धुएं का गुबार उठता है, जिससे इलाके में वायु प्रदूषण स्तर में इजाफा होता है। कई बार सांस तक लेना मुश्किल हो जाता है।

इस संबंध में कई बार पुलिस कंट्रोल रूम को भी सूचना दी गई, लेकिन पुलिस ने किसी तरह की कार्रवाई नहीं की। प्रशासनिक अधिकारियों को भी इस बारे में सूचित किया गया, लेकिन हालात नहीं बदले। मंगलवार को भी हिंडन जल बिरादरी ने सुबह के समय जिला मुख्यालय, एसएसपी ऑफिस और जनपद न्यायालय में कई स्थानों पर कूड़े में लगाई गई आग के फोटो खींचे और थाने में तहरीर दी। इस मामले में कूड़ा जलाने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई किए जाने की मांग की गई है।

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।