ताज़ा खबर :
prev next

कभी फेंकती थी पुलिस पर पत्थर, अब कश्मीरी टीम की गोल कीपर है अफ़शान

कभी फेंकती थी पुलिस पर पत्थर, अब कश्मीरी टीम की गोल कीपर है अफ़शान

नई दिल्ली | 21 वर्षीय अफ़शान आशिक की गिनती कभी कश्मीर के मशहूर पत्थर बाजों में होती थी। कुछ दहशतगर्दों के उकसावे में आकार अफ़शान श्रीनगर की गलियों में अपनी सहेलियों के साथ पुलिस पर पत्थर बरसाती थीं। जम्मू कश्मीर सरकार द्वारा उन जैसे अनेकों भटके हुए कश्मीरी युवक-युवतियों के लिए पुनर्वास कार्यक्रम का ही परिणाम है कि अफ़शान की गिनती अब राज्य की सबसे बेहतरीन महिला फुटबाल खिलाड़ियों के रूप में हो रही है।

आज केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मुलाक़ात करने वाली जम्मू कश्मीर की महिला फुटबाल टीम में अफ़शान भी एक गोल कीपर के रूप में शामिल थीं। जब पत्रकारों ने उनके पुराने दिनों के बारे में पूछा तो अफ़शान ने हंस कर जवाब दिया कि वह मेरा काला इतिहास था जो अब गुजर चुका है। राजनाथ सिंह द्वारा फुटबाल टीम के सदस्यों से मुलाक़ात के समय दिखाई गई गर्मजोशी ने अफ़शान को बहुत प्रभावित किया। अफ़शान ने कहा कि कश्मीर में कुछ लोग केंद्र सरकार के बारे में बहुत दुष्प्रचार करते हैं। उन्हीं से प्रभावित होकर सैंकड़ों युवक-युवतियाँ आतंकवादियों से जा मिलते हैं। जबकि दिल्ली में गृहमंत्री की गर्मजोशी से उन्हें कहीं भी नहीं लगा की कश्मीर भारत का हिस्सा नहीं है। अफ़शान ने कहा कि अब वे वापस कश्मीर जाकर भटके हुए नौजवानों को वापिस मुख्यधारा में लाने के लिए प्रेरित करेंगी।

(व्हाट्स एप के माध्यम से हमारी ख़बरें प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें
हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।